राज्य कृषि समाचार (State News)

राजस्थान: गिरते भू-जल स्तर से निपटने के लिए किसानों को मिलेगा खेत में तालाब बनवाने पर अनुदान

Share

06 जुलाई 2024, सीकर: राजस्थान: गिरते भू-जल स्तर से निपटने के लिए किसानों को मिलेगा खेत में तालाब बनवाने पर अनुदान – राजस्थान में गिरते भू-जल स्तर के कारण खेती-किसानी पर गंभीर असर पड़ रहा है। इस समस्या से निपटने के लिए केंद्र सरकार और मुख्यमंत्री भजन लाल शर्मा के नेतृत्व में राज्य सरकार कई योजनाएं चला रही हैं। सिंचाई की समस्या को हल करने और जल संरक्षण को बढ़ावा देने के उद्देश्य से “पर ड्रॉप मोर क्रॉप” और अन्य योजनाओं के तहत खेत में तालाब का निर्माण किया जा रहा है।

खेत में तालाब के लिए अनुदान की व्यवस्था

संयुक्त निदेशक कृषि रामनिवास पालिवाल ने बताया कि अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और सीमांत किसानों को 1200 घन मीटर पर इकाई लागत का 70% या अधिकतम 73,500 रुपये कच्चे खेत में तालाब पर और इकाई लागत का 90% या अधिकतम 1.35 लाख रुपये प्लास्टिक लाइनिंग खेत में तालाब पर अनुदान दिया जाएगा। अन्य श्रेणी के किसानों को लागत का 60% या अधिकतम 63,000 रुपये कच्चे खेत में तालाब पर और इकाई लागत का 80% या अधिकतम 1.20 लाख रुपये प्लास्टिक लाइनिंग खेत में तालाब पर अनुदान मिलेगा। न्यूनतम 400 घन मीटर क्षमता की खेत में तालाब पर ही अनुदान देय होगा।

किसान के पास न्यूनतम 0.3 हेक्टेयर कृषि योग्य भूमि होनी चाहिए, चाहे वह स्वयं के नाम हो या संयुक्त खातेदारी की स्थिति में। अनुदान के लिए आवेदन करने वाले किसान की जमाबंदी की नकल 6 माह से पुरानी नहीं होनी चाहिए और जिस खसरे में खेत में तालाब बनाना है उसका राजस्व विभाग द्वारा जारी नक्शा होना आवश्यक है।

आवेदन की प्रक्रिया

खेत में तालाब के लिए आवेदन की प्रक्रिया पूरी तरह से ऑनलाइन है। किसान “राज किसान साथी” पोर्टल पर जन आधार के माध्यम से या ई-मित्र पर जाकर आवेदन कर सकते हैं। योजना का लाभ उठाने के लिए किसान के पास जमाबंदी, खेत का नक्शा, जन आधार कार्ड और आधार कार्ड होना आवश्यक है।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

कृषक जगत ई-पेपर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.krishakjagat.org/kj_epaper/

कृषक जगत की अंग्रेजी वेबसाइट पर जाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements