राज्य कृषि समाचार (State News)

मंडला के प्रशिक्षण में बताए कोदो – कुटकी की व्यावसायिक खेती के तरीके

Share

27 मई 2024, मंडला: मंडला के प्रशिक्षण में बताए कोदो – कुटकी की व्यावसायिक खेती के तरीके – मंडला विकासखंड के ग्राम जारगी में कृषक संगोष्ठी कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें किसानों को जैविक खेती के बढ़ते महत्व तथा कोदो-कुटकी, चिया, रागी आदि मिलेट्स की खेती को व्यावसायिक रूप प्रदान करने के संबंध  में जानकारी प्रदान की गई। कृषक संगोष्ठी में सीईओ जिला पंचायत श्रेयांश  कुमट , उपसंचालक कृषि मधु अली, परियोजना अधिकारी आत्मा परियोजना आरडी जाटव सहित संबंधित उपस्थित रहे।

अधिक मुनाफा दे रही है मोटे अनाज की खेती – इस अवसर पर कलेक्टर डॉ. सलोनी सिडाना ने किसानों  से  कहा कि देश-दुनिया में मोटे अनाज की मांग लगातार बढ़ रही है।  कोदो-कुटकी सहित अन्य मोटे अनाज में पौष्टिक तत्व होते हैं, जो हमें विभिन्न प्रकार के रोगों से बचाते हैं। वैज्ञानिक भी कोदो-कुटकी, चिया, रागी आदि मिलेट्स के उपयोग की सलाह देते हैं, जिसके कारण इनकी मांग लगातार बढ़ती जा रही है। मोटे अनाज की खेती अब अधिक मुनाफा दे रही है। उन्होंने  किसानों से आग्रह किया कि कोदो-कुटकी की खेती में उन्नत किस्म के बीज लगाएं तथा खेती में वैज्ञानिक तरीकों का उपयोग करें। मोटे अनाज की खेती में पानी की आवश्यकता कम पड़ती है। कलेक्टर ने कोदो-कुटकी के संग्रहण, प्रसंस्करण तथा मार्केटिंग आदि के संबंध में भी चर्चा करते हुए संबंधित अधिकारियों  को आवश्यक निर्देश दिए।

कतार पद्धति से करें बोनी –  प्रशिक्षण  में विषय-विशेषज्ञों द्वारा बतलाया गया कि खेती में कतार पद्धति से बोनी करनी चाहिए। प्रत्येक बीज से उपज प्राप्त होती है। वहीं छिड़काव पद्धति से बीज अधिक लगता है जिससे कृषि की लागत बढ़ती है। प्रशिक्षण में कोदो-कुटकी की खेती में कृषि यंत्रों के उपयोग तथा उपलब्धता के संबंध में भी विस्तृत जानकारी प्रदान की गई।

मृदा सुधार के लिए करें जैविक खाद का उपयोग  – प्रशिक्षण में  किसानों  को बताया गया कि कोदो-कुटकी, रागी, आदि मोटे अनाज की खेती में रसायनिक खाद की आवश्यकता नहीं है। जैविक खाद का उपयोग कर मिट्टी की उर्वरा शक्ति बढ़ाई जा सकती है और उत्पादन बढ़ाया जा सकता है। इन फसलों के लिए गोबर खाद, केंचुआ खाद, जीवामृत का उपयोग किया जा सकता है ,जो मिट्टी की उत्पादन क्षमता बढ़ाने में मददगार होते हैं। इस मौके पर किसानों ने भी अपने अनुभव साझा किए तथा अपनी शंकाओं के संबंध में समाधान प्राप्त किया।  

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

Share
Advertisements