लुपिन ने कृषि विशेषज्ञों का किया सम्मान

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

10 सितंबर 2020, भरतपुर। लुपिन ने कृषि विशेषज्ञों का किया सम्मान संभागीय आयुक्त पीसी बेरवाल ने कहा है कि कृषि एवं अन्य विभाग समन्वित प्रयास कर कृषि के क्षेत्र में हुए विभिन्न अनुसंधानों एवं तकनीकों को किसानों तक पहुंचाने में सहयोग करें ताकि वे उत्पादन बढ़ाकर अपने आर्थिक स्तर में वृद्धि कर सकें।

महत्वपूर्ण खबर : धानुका के नए फफूंदीनाशक किरारी और निसोडियम

बेरवाल ने गुरुवार को लुपिन फाउंडेशन द्वारा सरसों अनुसंधान निदेशालय में कृषि व पशुपालन विशेषज्ञों व अनुसंधानकर्ताओं के सम्मान समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में बोलते हुये कहा कि हमारा देश कृषि प्रधान होने के कारण अधिकांश लोगों की आजीविका कृषि से जुड़ी हुई है। जनसंख्या वृद्धि की वजह से कृषि जोतों का आकार छोटा होता जा रहा है। ऐसी स्थिति में हमें चाहिए कि किसानों को ऐसी तकनीक उपलब्ध करायें ताकि वे कम लागत व क्षेत्रफल में अधिक उत्पादन ले सकें। उन्होंने बताया कि आज हमें जैविक खेती पर अधिक ध्यान देना होगा और इसकी उपादेयता की जानकारी किसानों को देकर उन्हें इस कार्य के लिए प्रोत्साहित करना होगा।

संभागीय आयुक्त ने लुपिन फाउंडेशन द्वारा समन्वित विकास एवं गरीब लोगों के आर्थिक स्तर में सुधार लाने के कार्यों की प्रशंसा करते हुये कहा कि निश्चय ही इस कार्य में अन्य संस्थाओं को भी आगे आना होगा। उन्होंने बताया कि कृषि एवं पशु पालन एक दूसरे से जुड़े हुये हैं जो ग्रामीण अर्थव्यवस्था की समृद्धि में सहायक रहे हैं। उन्होंने सुझाव दिया कि कृषि के साथ-साथ हमें पशुपालन के क्षेत्र में भी किये जा रहे अनुसंधानों को पशुपालकों तक पहुंचाने और कृषि व पशुपालन आधारित व्यवसायों को आगे बढ़ाना होगा।


कार्यक्रम में लुपिन की ओर से सरसों अनुसंधान निदेशालय के निदेशक डॉ. पीके राय, प्रधान वैज्ञानिक डॉ. अशोक शर्मा, डॉ. कुंवर हरेन्द्र सिंह, कृषि विभाग के संयुक्त निदेशक देशराज सिंह, पशु पालन के संयुक्त निदेशक डॉ. नागेश चौधरी, सूरजमल कृषि महाविद्यालय रहीमपुर के डीन डॉ. अमर सिंह, कृषि विज्ञान केन्द्र बैलारा के प्रभारी डॉ. धनराज शर्मा एवं कृषि विभाग के पूर्व संयुक्त निदेशक अमरसिंह शर्मा को साफा व माल्यार्पण कर एवं प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया। 


इस अवसर पर कृषि विभाग के संयुक्त निदेशक देशराज सिंह, पशुपालन के डॉ. नागेश चौधरी ने अपने विचार व्यक्त किये। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुये डॉ. पीके राय ने कहा कि लुपिन फाउंडेशन ने किसानों की आय वृद्धि के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य किये हैं। प्रारंभ में लुपिन के क्षेत्रीय कार्यक्रम प्रबन्धक डॉ. राजेश शर्मा ने सुझाव दिया कि कृषि, पशुपालन एवं ग्रामीण विकास के कार्यक्रमों से जुड़े विभागों का इनोवेशन एक्शन ग्रुप बनाया जाना चाहिए ताकि केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा संचालित योजनाओं, अनुसंधान संस्थानों में इजाद की गई नवीन तकनीकों को किसानों तक पहुंचाया जा सके जिसमें लुपिन सहयोग करेगी। अन्त में लुपिन के कृषि कार्यक्रम प्रभारी भीम सिंह ने सबका आभार व्यक्त किया।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × 4 =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।