राज्य कृषि समाचार (State News)

पुरुषार्थ की श्रेष्ठ आदिवासी परम्परा हलमा में शामिल होंगे मुख्यमंत्री

Share
  • इंदौर  (कृषक जगत )

18 फरवरी 2023,  इंदौर । पुरुषार्थ की श्रेष्ठ आदिवासी परम्परा हलमा में शामिल होंगे मुख्यमंत्री – झाबुआ-आलीराजपुर क्षेत्र की समृद्ध वनवासी परंपरा हलमा में शामिल होने के लिये मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान 26 फ़रवरी को झाबुआ पहुँचेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान हलमा में शामिल होकर श्रमदान करेंगे। कार्यक्रम में एक दिन राज्यपाल श्री मंगूभाई पटेल के आने  की भी संभावना है। हलमा आदिवासियों की सामूहिक श्रमदान की समृद्ध परम्परा है।

क्या है  हलमा  परम्परा ?–  हलमा जनजाति-समाज में एक सामूहिक आयोजन को कहा जाता है। जब भी किसी परिवार या गांव क्षेत्र में कोई आपत्ति आती है या व्यक्ति को या गांव क्षेत्र को सहायता की आवश्यकता होती है, तो पूरे के पूरे गांव के लोग एक जगह एकत्र होकर उसकी सहायता करते हैं। जैसे कि किसी गांव में तालाब बनाना है, कुंआ खोदना है या फिर किसी किसान के पास खेत जोतने के लिये पर्याप्त संसाधन नहीं है तो ऐसे में पूरे गांव के लोग एकत्र होकर एक साथ मिलकर उस काम को पूरा करने के लिये जुटते हैं और कई दिनों,  महीनों  के काम को कुछ ही समय में पूरा कर देते हैं। उसके बदले में कोई पारिश्रमिक नहीं लिया जाता। खुशी से व्यक्ति उन एकत्रित लोगों को नाश्ता या भोजन अपनी इच्छा शक्ति से करवा देता है। इस सामूहिक प्रयास को ही हलमा कहा जाता है।

इस वर्ष शिवगंगा के तहत झाबुआ में 25 व 26 फरवरी को दो दिवसीय हलमा का आयोजन किया जा रहा है। झाबुआ के हाथीपावा क्षेत्र की पहाड़ी पर पर्यावरण संरक्षण और जल संवर्धन के कार्य को एक साथ हजारों आदिवासी गैती, फावड़ा, तगाड़ी लेकर अंजाम देंगे और हजारों की संख्या में कंटूर ट्रेचिंग पहाड़ी पर खोदेंगे, जिससे की बारिश में जल को रोका जा सके और झाबुआ के तालाबों व लोगों को पर्याप्त पानी मिल सके। ऐसा करने से ग्राउंड वाटर लेवल बढ़ जाता है। इसी के साथ में इस पूरे पहाड़ी क्षेत्र में बड़ी संख्या में वृक्ष लगाये जा रहे हैं। यह कार्य पिछले लंबे समय से किया जा रहा है, जिसके कारण आज हाथीपावा पहाड़ी क्षेत्र विकसित वन के रूप में  पल्लवित   हो रहा है। वहीं यहां कई प्रकार के वन्य जीव जंतु भी रहने लगे हैं , जिनमें तेंदुआ, मोर, लोमड़ी,  हिरण , नीलगाय, बंदर आदि जानवर शामिल हैं।

इस आयोजन  को सफल बनाने के लिए  संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा ने वर्चुअल बैठक आयोजित की और इस कार्यक्रम की तैयारियों की समीक्षा की। इस बैठक में पुलिस महानिरीक्षक श्री राकेश कुमार गुप्ता, कलेक्टर झाबुआ श्रीमती रजनी सिंह, पुलिस अधीक्षक झाबुआ सहित अन्य संबंधित अधिकारी शामिल हुए। बैठक में श्रीमती सिंह ने इस  दो  दिवसीय आयोजन के लिए सभी आवश्यक व्यवस्थाओं की जानकारी दी।श्री महेश शर्मा ने हलमा परम्परा के संबंध में विस्तार से जानकारी  दी।  बताया गया कि लगभग 50 हजार वनवासी बंधु इस अवसर पर सामूहिक रूप से हाथीपावा पहाड़ी पर श्रमदान करेंगे।  

महत्वपूर्ण खबर: जीआई टैग मिलने से चिन्नौर धान किसानों को मिल रहा है अधिक दाम

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *