राज्य कृषि समाचार (State News)

भाकिसं पांढुर्ना ने केंद्रीय कृषि मंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा

Share

15 जून 2024, (उमेश खोड़े, पांढुर्ना): भाकिसं पांढुर्ना ने केंद्रीय कृषि मंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा – भारतीय किसान संघ , जिला पांढुर्ना द्वारा शुक्रवार को किसानों की विभिन्न मांगों को लेकर केंद्रीय कृषि मंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान के नाम ज्ञापन कलेक्टर के माध्यम से देने हेतु श्री सुनील गजभिए ,वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी, पांढुर्ना को संघ के सह संयोजक श्री नीरज दुबे ने सौंपा।

प्रस्तुत ज्ञापन में भारतीय किसान संघ ने किसानों को कपास ,तुअर,सोयाबीन, मक्का आदि फसलों के लिए उनके द्वारा चाही गई किस्म / कम्पनी के बीज ही उपलब्ध कराने की मांग की गई। निर्धारित मूल्य पर ही बीज उपलब्ध  कराने के साथ ही खरीदे गए बीज का पक्का प्रमाणित बिल किसानों को देने की मांग की गई , ताकि यदि बीज की वजह से फसल ख़राब हो तो  किसानों को मुआवजा मिल सके। ज्ञापन में किसानों ने यह मांग भी रखी कि पांढुर्ना क्षेत्र के कृषि आदान विक्रेताओं के यहाँ विभिन फसलों के लिए कौन -कौन सी कम्पनी के कौनसी किस्मों के बीजों का व्यापार किया जा रहा है , उसकी सूची कृषि विभाग के सूचना पटल पर चस्पा की जाए , ताकि किसान  सूची देखकर जान सके कि  किस कम्पनी का कौनसी किस्म का बीज  अधिकृत  दुकानदार से ले रहे हैं ।  कृषि विभाग द्वारा सप्ताह में दो दिन कृषि आदान विक्रेताओं की  दुकानों का निरीक्षण किया जाए , जिसमें निरीक्षण के दौरान भारतीय किसान संघ पांढुर्ना के एक सदस्य को साथ में रखने की मांग की गई , ताकि पारदर्शिता बनी रहे।  

श्री नीरज दुबे ने कृषक जगत को बताया कि  संघ के पास किसानों की शिकायत आई थी कि उन्हें इच्छित कंपनियों के बीज नहीं मिल पा रहे हैं , यदि मिल भी रहे हैं तो उसका निर्धारित मूल्य से अधिक दाम लिया जा रहा है। किसानों की एक शिकायत यह भी है कि उन्हें  बीज खरीदने पर पक्का बिल मांगने पर भी नहीं दिया जाता है। कृषि  दुकानदार किसानों को अनिवार्य रूप से पक्का बिल दे और उसका डाटा भी रखे, ताकि यदि किसी कारण से बीज खराब निकले तो संबंधित दुकानदार के माध्यम से उक्त कम्पनी के खिलाफ शिकायत कर क्लेम किया जा सके। कृषि आदान विक्रेताओं को अपने स्टॉक की पूरी जानकारी कृषि विभाग को भी देनी चाहिए ताकि विभाग के सूचना पटल  से किसान यह जान सके कि किस दुकानदार को किस कम्पनी ने अधिकृत किया है।  इन्हीं सब मुद्दों को लेकर ज्ञापन दिया गया है।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

Share
Advertisements