किसानों को 49 लाख दावों का रु. 7,600 करोड़ भुगतान

Share

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत मुख्यमंत्री ने सिंगल क्लिक के माध्यम से खाते में डाली राशि

12 फरवरी 2022, बैतूल । किसानों को 49 लाख दावों का रु. 7,600 करोड़ भुगतान – मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने बैतूल में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत फसल क्षति की सबसे बड़ी राशि का वितरण किया। यह पूरे प्रदेश में एक साथ सिंगल क्लिक से वितरित की गई। इसके तहत उन्होंने 49 लाख दावों पर 7600 करोड़ रुपये का वितरण किया है। मुख्यमंत्री ने इसे ऐतिहासिक दिन बताते हुए कहा कि दो साल में उनकी सरकार ने किसानों को जीरो परसेंट पर दिए जाने वाले लोन के ब्याज का 29 हजार 864 करोड़ रुपए चुकाया है। जबकि 30 हजार करोड़ रुपए सस्ती बिजली के लिए अनुदान दिया गया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 10337 करोड़ रुपए किसानों के खाते में पीएम सम्मान निधि से भेजी गई।

सिंचाई के लिए 66 हजार करोड़

बीते 22 महीने में 1 लाख 64 हजार 737 करोड़ रुपए किसानों के खातों में गया है। यह किसानों की सरकार है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आने वाले दिनों में 66 हजार करोड़ रुपए सिंचाई पर खर्च किए जाएंगे। 2024 तक नर्मदा जल का शत-प्रतिशत उपयोग किये जाने की योजना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी 7618 करोड़ किसानों के खाते में डाले गये हैं, इसके पूर्व जब फसल खराब हुई थी तब 2876 करोड़ की रकम खाते में डाली गई थी। इस प्रकार किसानों के खाते में अब तक 10494 करोड़ रुपये पहुंचे हैं।

जैविक खेती और सोलर यूनिट को बढ़ावा दें

मुख्यमंत्री ने कहा कि दुनिया में जैविक खेती की डिमांड बढ़ रही है। अब प्रदेश सरकार कस्टम हायरिंग सेंटर खोल रही है। युवा गोडाउन, वेयरहाउस बनाने के लिए आगे आए। अगर किसान अपने खेत में दो मेगावाट तक का सोलर यूनिट लगाते हैं तो उससे बनने वाली बिजली 3 रुपए 15 पैसे के भाव में खरीदेंगे। उन्होंने लोगों से आव्हान किया कि ग्रामीण अपने गांव का गौरव दिवस मनाएं। गांव का मास्टर प्लान बनायें। जिससे गांव का सुव्यवस्थित विकास हो।

कार्यक्रम को केंद्रीय कृषि मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने वर्चुअली संबोधित करते हुए कहा कि किसानों को तकनीक से जोडऩे की जरूरत है। मध्य प्रदेश खेती में प्रगति कर रहा है। प्रदेश के कृषि मंत्री श्री कमल पटेल ने कहा कि हम किसानों का दुख-दर्द भली-भांति जानते हैं। सबके सहयोग से प्रदेश में तेजी से कृषि कार्य हो रहे हैं।

महत्वपूर्ण खबर: इक्रीसेट रिसर्च – टेक्नोलॉजी ने खेती को आसान और सस्टेनेबल बनाया है

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.