किसानों की आय बढ़ाने हेतु समन्वित प्रयास जरूरी : श्री सिंह

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

होशंगाबाद। कृषि विज्ञान केंद्र गोविंदनगर में प्रशासनिक भवन का लोकार्पण एवं आवासीय भवन का भूमिपूजन श्री सुरेश सोनी सह सरकार्यवाह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कर कमलों द्वारा किया गया। इस अवसर पर अतिथियों द्वारा गौमाता का पूजन कर, भूमिपूजन किया गया, तत्पश्चात प्रशासनिक भवन का लोकार्पण किया गया।

सर्वप्रथम न्यास प्रबंधक श्री धर्मेंद्र गुर्जर ने गत 3 वर्ष में किसान हित में किये गए कृषि विज्ञान केंद्र का प्रगति प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। डॉ. एस. आर. के. सिंह निदेशक अटारी जबलपुर ने कृषि विज्ञान केंद्र गोविंदनगर के कार्य को सराहना करते हुए कहा कि उन्नत तकनीक का शामिल कर केंद्र गुणवत्ता युक्त जैविक उत्पादों को लेकर और कार्य करे एवं किसानों को सतत प्रशिक्षण प्रदान करे।

श्री के. के. सिंह अपर मुख्य सचिव एवं कृषि उत्पादन आयुक्त म.प्र. शासन ने सरकार की सभी नवीन कृषि योजना की जानकारी प्रदान की। साथ ही कृषि उत्पादन आयुक्त ने कहा कि होशंगाबाद जिला गेहूं, धान एवं मूंग उत्पादकता में प्रदेश ही नहीं देश में अव्वल है, यहां के किसान लगातार कृषि कर्मण अवॉर्ड प्राप्त कर रहे हैं। कृषि विभाग एवं कृषि वैज्ञानिकों द्वारा किये जा रहे कार्य की सराहना करते हुये आपने कहा कि अब किसानों को उनकी आय बढ़ाने हेतु कृषि उद्यानिकी, पशुपालन मत्स्यपालन, रेशमपालन का समन्वित प्रयास करना होगा।

कार्यक्रम में डॉ. एस. पी. तिवारी कुलपति नानाजी देशमुख पशु चिकित्सा विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर, श्री कैलाश सोनी, श्री शैलेन्द्र जैन कोषाध्यक्ष भाऊ साहब भुस्कुटे स्मृति लोक न्यास भी उपस्थित रहे।

कार्यक्रम में अन्य अधिकारीगण डॉ. उमेश शर्मा, भारती चिकित्सा विज्ञान परिषद के अध्यक्ष व जिले के उपसंचालक कृषि श्री जितेंद्र सिंह, उपसंचालक उद्यानिकी रीता उईके, उपसंचालक पशुपालन डॉ. जितेंद्र कुल्हाड़े, संचालक प्रक्षेत्र, जेएनकेविवि जबलपुर, डॉ. डीके पहलवान जे. एन. के. व्ही. व्ही. जबलपुर व प्रगतिशील कृषक उपस्थित रहे। डॉ. संजीव कुमार गर्ग केंद्र प्रमुख कृषि विज्ञान केंद्र ने आभार व्यक्त किया। मंच संचालन श्री ओमकार ने किया।

कृषि उत्पादन आयुक्त द्वारा के.वी.के. की गौ शाला एवं बायोगैस संयंत्र का भी निरीक्षण किया।
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए श्री के.के. सिंह एवं मंचासीन अतिथिगण।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।