फसल विविधिकरण में मक्का, ज्वार, बाजरा भी लगायें

Share

3 मार्च 2022, देवास । फसल विविधिकरण में मक्का, ज्वार, बाजरा भी लगायें कृषि विज्ञान केन्द्र, देवास द्वारा विकासखण्ड-सोनकच्छ के ग्राम राजौदा में उप संचालक कृषि श्री आर. पी. कनेरिया एवं केन्द्र प्रमुख डॉ. ए.के. बडाया के मार्गदर्शन में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन समूह कार्यक्रम के अंतर्गत चना प्रक्षेत्र दिवस का आयोजन गत दिनों किया गया। कार्यक्रम की शुरूआत में केन्द्र के प्रधान वैज्ञानिक डॉ. बडाया ने चने के प्रक्षेत्र दिवस की महत्ता बताते हुए फसल विविधिकरण, जैविक खेती आदि के बारे में विस्तृत चर्चा की। उन्होंने बताया कि देवास जिले में अधिकांश क्षेत्र में सोयाबीन की बौनी की जाती है। हमें फसल विविधिकरण करते हुए मक्का, ज्वार, बाजरा इत्यादि का भी समावेश करें। साथ ही जैविक खेती हेतु गायों के संरक्षण आदि पर भी जोर दिया।

केन्द्र के शस्य वैज्ञानिक डॉ. महेन्द्र सिंह द्वारा गांव में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन अंतर्गत चने की किस्म विक्रम फुले के प्रदर्शन दिये गये थे। उनके द्वारा इस किस्म के बारे में विस्तृत चर्चा की गई।
केन्द्र के कृषि अभियांत्रिकी वैज्ञानिक डॉ. के.एस.भार्गव ने आधुनिक खेती में मशीनीकरण की आवश्यकता पर जोर देते हुए बताया कि चना की बुवाई अगर रेज्ड बेड पद्धति से करेंगे तो विल्ट जैसी बीमारी कम से कम आयेगी तथा उत्पादन में अप्रत्याशित वृद्धि होगी।

महत्वपूर्ण खबर: हाईटेक खेती के लिए किसानों को ड्रोन पर मिलेगा 5 लाख रुपये अनुदान

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.