प्राकृतिक खेती प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए केंद्र की महती योजना

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

8 राज्यों को 45 करोड़ दिए

19 मार्च 2021,नई दिल्ली । प्राकृतिक खेती प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए केंद्र की महती योजना – भारतीय प्राकृतिक  कृषि पद्धति  (BPKP), प्राकृतिक खेती सहित पारंपरिक स्वदेशी प्रथाओं को बढ़ावा देने के लिए 2020-21 से परम्परागत कृषि विकास योजना (PKVY) की उप योजना के रूप में पेश की गई है। यह योजना मुख्य रूप से सभी सिंथेटिक रासायनिक आदानों के बहिष्कार पर जोर देती है और  कृषि बायोमास रीसाइक्लिंग को बढ़ावा देती है . गोबर-मूत्र के मिश्रण  का उपयोग ,  भूमि  की तैयारी के समय उपयोग आदि । बीपीकेपी के तहत, क्लस्टर निर्माण, क्षमता निर्माण और प्रशिक्षित कर्मियों द्वारा प्रमाणीकरण और अवशेष विश्लेषण के लिए 12200 / – रुपये प्रति हेक्टेयर की वित्तीय सहायता प्रथम 3 वर्ष तक दी  है। अब तक, प्राकृतिक खेती के तहत 4.09 लाख हेक्टेयर क्षेत्र को कवर किया गया है और   मध्य प्रदेश , छत्तीसगढ़  सहित देश भर के 8 राज्यों में 4587.17 लाख जारी किए गए हैं.

राज्य वार आवंटन

क्रमांक

राज्य

क्षेत्रफल (हेक्टेयर)

राशि (लाख में )

1.

आंध्र प्रदेश

100000

750.00

2.

छत्तीसगढ़

85000

1352.52

3.

केरल

84000

1336.60

4.

हिमाचल प्रदेश

12000

286.42

5

झारखण्ड

3400

54.10

6.

उड़ीसा

24000

381.89

7.

मध्य प्रदेश

99000

393.82

8.

तमिलनाडु

2000

31.82

कुल

409400

4587.17

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।