प्रीत ट्रैक्टर : कम दाम में विश्वस्तरीय तकनीक

Share

20 अक्टूबर 2020, भोपाल। प्रीत ट्रैक्टर : कम दाम में विश्वस्तरीय तकनीक भारतीय टै्रक्टर और कृषि उपकरण के क्षेत्र में प्रीत ट्रैक्टर्स प्रा.लि. अब एक जाना-पहचाना नाम बन चुका है। आज से लगभग 4 दशक पूर्व थ्रेशर, रीपर जैसे कृषि उपकरणों के निर्माण से प्रारम्भ हुई प्रीत एग्रो इण्डस्ट्रीज अब प्रीत ट्रैक्टर्स प्रा.लि. के नाम से जानी जाती है। प्रीत के हार्वेस्टर और ट्रैक्टर अपनी गुणवत्ता और तकनीक के कारण भारतीय किसानों के मध्य लोकप्रिय हैं। आज प्रीत के पास हार्वेस्टर, रोटावेटर, बेलर, बैक हो लोडर, और ट्रैक्टर जैसे आधुनिक कृषि यंत्रों की विशाल श्रृंखला है। इन 4 दशकों में प्रीत ने स्वयं की आर एंड डी से भारतीय कृषि के अनुकूल हार्वेस्टर और ट्रैक्टर के कई मॉडल विकसित किये हैं। जिसके लिए प्रीत टै्रक्टर्स को दो बार भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्रदान किये गये हैं। पंजाब के नाभा में स्थित अत्याधुनिक निर्माण संयंत्र में बनने वाले हार्वेस्टर और ट्रैक्टरों की मांग देश के साथ-साथ विदेशों में भी बढ़ रही है। इस संयंत्र में 20 हा.पा. से 100 हा.पा. तक के अत्याधुनिक तकनीक वाले टै्रक्टरों का निर्माण किया जाता है।

महत्वपूर्ण खबर : महिन्द्रा ट्रैक्टर्स टफ हरदम

प्रीत 955 4डब्ल्यूडी

  • कम ईंधन खपत में अधिक शक्ति
  • कम रखरखाव खर्च
  • बोनट लॉक चाबी के साथ
  • एयरो डायनेमिक बोनट
  • मोबाइल चार्जर प्वाइंट

प्रीत के बढ़ते कदम

  • 1980 प्रीत एग्रो इण्डस्ट्री की स्थापना
  • 1985 प्रीत ट्रैक्टर कम्बाइन हार्वेस्टर प्रस्तुत
  • 1990 प्रीत एग्रो इंडस्ट्री कंपनी बनी
  • 1995 नये निर्माण संयंत्र का शुभारंभ
  • 1998 एयर कंडीशंड कम्बाइन हार्वेस्टर प्रस्तुत
  • 2002 प्रीत ट्रैक्टर्स प्रा.लि. की स्थापना
  • 2010 राष्ट्रपति द्वारा राष्ट्रीय पुरस्कार
  • 2014 राष्ट्रपति द्वारा राष्ट्रीय पुरस्कार
  • 2016 राष्ट्रीय पुरस्कार
  • 2020 बैक हो लोडर प्रस्तुत
Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.