राष्ट्रीय कृषि समाचार (National Agriculture News)पशुपालन (Animal Husbandry)

सरकार का लक्ष्य पशुधन क्षेत्र का विकास : श्री रूपाला

Share

75 उद्यमियों के सम्मेलन और 75 देशी पशुधन नस्लों की प्रदर्शनी

2  जून 2022, नई दिल्ली । सरकार का लक्ष्य पशुधन क्षेत्र का विकास : श्री रूपाला – केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री श्री पुरुषोत्तम रूपाला ने नई दिल्ली में 75 उद्यमियों के सम्मेलन और 75 स्वदेशी पशुधन नस्लों की प्रदर्शनी- उन्नत पशुधन सशक्त किसान सम्मेलन का उद्घाटन किया। मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी राज्य मंत्री डॉ. एल मुरुगन और डॉ. संजीव कुमार बाल्यान इस कार्यक्रम में  अतिथि थे । श्री रूपाला ने गोजातीय/बकरा/पक्षी/सुअर प्रजातियों की सर्वश्रेष्ठ 75 स्वदेशी नस्लों को प्रदर्शित करने के लिए डिजिटल प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। डिजिटल प्रदर्शनी में 75 देशी पशुधन नस्लों और डेयरी तथा मुर्गीपालन किसानों, एफपीओ, नए उद्यमियों, स्टार्ट-अप और उद्योग की सफलता की कहानियों को प्रदर्शित किया गया। इस अवसर पर श्री अतुल चतुर्वेदी, सचिव, डीएएचडी और डॉ. ओ. पी. चौधरी, संयुक्त सचिव, डीएएचडी उपस्थित थे। कार्यक्रम में श्री मीनेश शाह, अध्यक्ष, एनडीडीबी, श्री संजय सिंघल, सीओओ, डेयरी एंड बेवरेजेज, आईटीसी लिमिटेड, श्री संग्राम चौधरी, एमडी, बनासकांठा जिला सहकारी दुग्ध उत्पादक संघ लिमिटेड और डेयरी क्षेत्र के अन्य प्रतिनिधि उपस्थित थे। केंद्रीय मंत्री श्री पुरुषोत्तम रूपाला ने सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि सभी हितधारकों के संयुक्त योगदान के कारण भारत का डेयरी क्षेत्र तेजी से बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार का लक्ष्य पशु स्वास्थ्य और ऋण सेवाओं तक किसानों की पहुंच बढ़ाकर पशुधन क्षेत्र का विकास सुनिश्चित करना है।

श्री रूपाला ने सम्मेलन में ए-हेल्प के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ किया। उन्होंने कार्यक्रम के दौरान 3 पद्म श्री पुरस्कार विजेताओं – प्रो. मोती लाल मदान, डॉ. कुशल कुंवर सरमा और डॉ सोसम्मा आइपे को सम्मानित किया। इसके अलावा, श्री रूपाला ने सम्मेलन में पशुपालन स्टार्टअप ग्रैंड चैलेंज 2.0 के विजेताओं को भी सम्मानित किया। उन्नत पशुधन सशक्त किसान सम्मेलन में लगभग 75 स्वदेशी नस्लों और 75 उद्यमियों के बारे में कॉफी टेबल बुक लॉन्च किया गया। इस कार्यक्रम में 4 किसानों के वीडियो दिखाए गए, जिन्होंने खेती और डेयरी क्षेत्र में अपनी नवीन तकनीकों के कारण राष्ट्रीय और वैश्विक स्तर पर पहचान हासिल की है।

सम्मेलन में मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी राज्य मंत्री डॉ. एल मुरुगन ने  बताया कि कैसे भारत किसानों के घर तक गुणवत्तापूर्ण पशु स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रहा है।

मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी राज्य मंत्री डॉ. बाल्यान ने विस्तार से बताया कि कैसे एनपीडीडी योजना पूरे भारत में डेयरी उत्पादन और प्रसंस्करण बुनियादी ढांचे की स्थापना को आगे बढ़ा रही है।

इस सम्मेलन में तीन तकनीकी विषयगत सत्रों जैसे उत्पादकता बढ़ाना और पशु स्वास्थ्य में सुधार, मूल्य संवर्धन और बाजार संबंध और नवाचार एवं प्रौद्योगिकी पर ध्यान केंद्रित किया गया 

महत्वपूर्ण खबर: अब बढ़ेगी टर्की पालन से किसानों की आय

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *