पशुपालन (Animal Husbandry)

मछली पालकों के लिए प्रदेश में अनेक योजनाएं

Share

11 अक्टूबर 2022, इंदौर मछली पालकों के लिए प्रदेश में अनेक योजनाएं – मप्र में मत्स्य पालन के क्षेत्र में मार्केटिंग, ब्रांडिंग और एक्सपोर्ट को बढ़ावा देने के लिए इंदौर में एक दिवसीय राज्य स्तरीय कार्यशाला आयोजित की गई। इस कार्यशाला में 5 देशों तथा आठ राज्यों के प्रतिनिधियों सहित बड़ी संख्या में मत्स्य उत्पादकों, मत्स्य पालकों एवं मत्स्य विक्रेताओं ने हिस्सा लिया।

प्रदेश के जल संसाधन तथा मछुआ कल्याण तथा मत्स्य पालन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने कार्यशाला में कहा कि आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण में मछली पालन क्षेत्र का अहम योगदान है। प्रदेश में मत्स्य पालन के क्षेत्र में मार्केटिंग, ब्रांडिंग और एक्सपोर्ट को बढ़ावा देने के लिए कारगर प्रयास किये जा रहे है। मत्स्य पालकों के लिए अनेक लाभकारी योजनाएं और कार्यक्रम शुरू किए गए है। श्री सिलावट ने कहा कि प्रदेश में मछली पालन विभाग के नवाचारों से मछुआ समाज के युवाओं को रोजगार के नए अवसर मिलेंगे। देश में अब नीली क्रांति की शुरुआत प्रदेश से होगी। मत्स्य बीज उत्पादन और मछली उत्पादन के साथ इसकी प्रोसेसिंग के क्षेत्र में भी प्रदेश में निवेश हो रहा है और अभी इस क्षेत्र में निवेश की असीम संभावनाएं है इस क्षेत्र में निवेश में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मीठे पानी की मछली के निर्यात का बढ़ावा मिलेगा और स्थानीय स्तर पर मछुआरों और मछली पालक की आय में वृद्धि भी होंगी। सांसद श्री शंकर लालवानी ने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा मत्स्य पालन को बढ़ावा देने तथा मछुआरों के समग्र कल्याण के लिये विभिन्न योजनाएं शुरू की गई है। केन्द्र सरकार के मत्स्य पालन विभाग के संयुक्त सचिव श्री सागर मेहरा ने केन्द्र सरकार द्वारा प्रारंभ की गई योजनाओं की विस्तार से जानकारी दी।

प्रमुख सचिव मत्स्य पालन श्रीमती कल्पना श्रीवास्तव ने बताया कि इस कार्यशाला में पांच देश जिसमें जापान, वियतनाम, थाईलैंड, मॉरीशस तथा नेपाल के प्रतिनिधि भी सम्मिलित हुए। उन्होंने प्रदेश के साथ एमओआई भी साइन किये हैं। इससे प्रदेश में मछली उत्पादन के साथ मार्केटिंग और निर्यात की नई संभावना पैदा होंगी।

कार्यशाला में 5 देशों तथा आठ राज्यों के प्रतिनिधि और देश के 8 से अधिक राज्यों के मछली विभाग के संचालक भी शामिल हुए। कार्यशाला में इंदौर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री जयपाल सिंह चावड़ा, विधायक श्री रमेश मेंदोला, के राष्ट्रीय सहकारी विकास निगम की सुश्री आर. वनिता तथा राष्ट्रीय मात्स्यिकी विकास बोर्ड हैदराबाद के संचालक श्री विजय कुमार भी उपस्थित थे।

महत्वपूर्ण खबर: प्राकृतिक खेती – डिजिटल कृषिअब मिशन मोड में होगी

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *