अदामा का खरपतवारनाशी झूमर

Share

इंदौर। हमारा उद्देश्य भारतीय किसानों को पौध संरक्षण के लिए वैश्विक गुणवत्तायुक्त समाधान प्रदान करना है। अदामा इंडिया ने समय-समय पर अंतरराष्ट्रीय मानकों की कसौटी पर खरे उतरने वाले उत्पाद प्रस्तुत किए हैं, इसी शृंखला में हम नया उत्पाद झूमर लेकर आए हैं।
भव्य रंगारंग कार्यक्रम में सैकड़ों किसानों और डीलर्स की उपस्थिति में ये बात अदामा इंडिया प्रा.लि. जो पूर्व में मक्तेशिम अगान इंडिया प्रा.लि. के नाम से जानी जाती थी, के सीईओ एवं पे्रेसिडेंट श्री एलेन लेवनॉन ने कही। इस अवसर पर श्री शाह शिवेली (सीएओ), श्री एस.बी.वी.आर. प्रसाद (एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर सेंट्रल-साउथ जोन), डॉ. नरहरि पुलैया (डायरेक्टर स्ट्रेटेजी एंड पोर्टफोलियो डेवलपमेंट, मार्केटिंग) एवं अविनाश कुमार पांडेय (जोनल मैनेजर मप्र) उपस्थित थे। कार्यक्रम में कम्पनी के नए लोगो अदामा इंडिया का भी लोकार्पण किया गया।
श्री लेवनॉन ने बताया इजराइल स्थित अदामा एग्रीकल्चरल सॉल्यूशंस लि. (पूर्व में मक्तेशिम अगान इंडस्ट्रीज लि.) खरपतवारनाशी, कीटनाशी एवं फफूंदनाशी जैसे विभिन्न ब्रांडेड फसल संरक्षण उत्पादों की निर्माता और वितरक कम्पनी है। दुनिया की श्रेष्ठ एग्रो केमिकल कम्पनियों में अदामा छठे स्थान पर है, जो कि सालाना 3.2 बिलियन डॉलर का व्यवसाय करती है। अदामा दुनिया के 120 देशों को अपने उत्पाद बेचती है। भारत में 2009 में आई अदामा आज एग्रोकेमिकल कम्पनियों में दूसरे पायदान पर स्थापित है। अनूठे मार्केटिंग मॉडल के तहत विक्रेताओं के माध्यम से कंपनी के उत्पाद सीधे किसानों को उपलब्ध कराए जा रहे हैं। इससे हम किसानों के नजदीक पहुंचे हैं। एजिल, वीडब्लाक, कस्टोडिया की शृंखला में हम इस वर्ष झूमर लेकर आए हैं।
इस अवसर पर श्री प्रसाद ने कहा हम किसान समुदाय को हर तरह से लाभान्वित करना चाहते हैं।
किसान मित्र उत्पाद एजिल के साथ ही इमिजाथाइपर आधारित वीडब्लाक को मध्यप्रदेश के किसानों ने हाथों-हाथ लिया है। हमने 5 लाख लीटर से अधिक वीडब्लाक का विक्रय किया है। पिछले वर्ष प्रस्तुत फफूंदनाशी कस्टोडिया को खासा पसंद किया गया। सोयाबीन के साथ ही 30 से अधिक फसलों पर इसके प्रभावी परिणाम मिले हैं। इस अवसर पर डॉ. नरहरि पुलैया ने नए उत्पाद झूमर के विषय में जानकारी दी। अंत में जोनल मैनेजर श्री अविनाश पांडेय ने आभार व्यक्त किया।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.