Share

(राजीव कुशवाह, नागझिरी)

15 फरवरी 2021, नागझिरी ।जायडेक्स की कृषक गोष्ठी– वी केयर इको फार्मिंग के तत्वावधान में गत दिनों नागझिरी में जैविक उत्पाद कम्पनी जायडेक्स इंडस्ट्रीज प्रा. लि. की कृषक संगोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसमें आसपास के 20 गांवों से बड़ी संख्या में उपस्थित किसानों को रसायनिक खेती से बढ़ती बीमारियों और धरती पर पड़ रहे दुष्प्रभावों की जानकारी देकर जैविक खेती करने पर जोर दिया गया।

जायडेक्स के स्टेट हेड श्री अशोक यादव ने कहा कि एक ओर जहां खेती में लागत खर्च निरंतर बढ़ रहा है, वहीं दूसरी ओर मिट्टी की हालत भी गिरती जा रही है। लोगों में बीमारियां बढ़ रही है। इसका मुख्य कारण खेतों में रासायनिक दवाइयों और उर्वरकों का अंधाधुंध प्रयोग करना है। उन्होंने कहा कि हमने कार्बनिक खेती और गोधन का संरक्षण नहीं किया तो उत्पादन की मात्रा निरंतर घटकर एक चौथाई रह जाएगी। आपने कृषि और कृषकों के स्वास्थ्य के लिए जॉयटॉनिक -एम. के इस्तेमाल करने की सिफारिश की। एरिया सेल्स मैनेजर श्री अनिल पटेल ने उत्तम गोबर खाद तैयार करने की विधि बताते हुए कहा कि एक ट्रॉली गोबर खाद में 500 मिली ट्राइकोडर्मा मिलाने से पकी खाद का असर लम्बे समय तक बना रहता है। जमीन की जल ग्रहण क्षमता प्रति एकड़ 20 लाख लीटर बारिश का पानी सोखती है।

टैरेटरी मैनेजर श्री योगेश सिंह तोमर ने मानव, समाज, पशुओं और देश के लिए जैविक खेती को एकमात्र विकल्प बताया। श्री धर्मेंद्र सिंह तोमर ने बांस की खेती की जानकारी दी। स्थानीय कृषक श्री लखन कुशवाह के खेत में आयोजित इस कृषक संगोष्ठी में उपस्थित किसानों ने करीब दस एकड़ क्षेत्र में प्रयुक्त कम्पनी उत्पाद जायटॉनिक- एम, एनपीके और गोधन की प्रक्षेत्र प्रदर्शनी को भी देखा और जिन किसानों ने इसका प्रयोग किया उनके अनुभव भी सुने। आभार प्रदर्शन कम्पनी के श्री विजय चौधरी ने किया।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *