एनएफएसएम के तहत हरियाणा सरकार 2023 में बाजरे का ‘न्यूट्री-सेरिअल’ के रूप में करेगी प्रचार

Share

29 जुलाई 2022,चण्डीगढ़: एनएफएसएम के तहत हरियाणा सरकार 2023 में बाजरे का ‘न्यूट्री-सेरिअल’ के रूप में करेगी प्रचार – संयुक्त राष्ट्र ने भारत सरकार के प्रयासों से वर्ष 2023 को अन्तर्राष्ट्रीय ‘न्यूट्री-सेरिअल’ वर्ष घोषित किया हैै। वर्ष 2023 में हरियाणा सरकार राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन के तहत बाजरे को ‘न्यूट्री-सेरिअल’ के रूप में प्रचारित करेगी। हरियाणा में लगभग 10 से 12 लाख एकड़ में बाजरे की फसल होती है तथा उत्पादन भी प्रति एकड़ लगभग 8 क्विंटल तक होता है।
यह जानकारी मुख्य सचिव श्री संजीव कौशल की अध्यक्षता में हुई राज्य खाद्य सुरक्षा मिशन कार्यकारी कमेटी की बैठक में दी गई।

बासमती चावल का निर्यात बढ़ाने के लिए सीधे कम्पनियों से अनुबंध खेती करवाने के करें प्रयास

मुख्य सचिव ने हैफेड के अधिकारियों को निर्देश दिए कि बासमती चावल का निर्यात बढ़ाने के लिए सीधे कम्पनियों से अनुबंध खेती करवाने के प्रयास करें। बैठक में इस बात की जानकारी भी दी गई कि हैफेड संयुक्त राज्य अमीरात (यूएई) व अन्य अरब देशों के साथ बासमती चावल का निर्यात पहले से ही कर रहा है।
श्री कौशल ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि प्रदेश में जौं की अनुबंध खेती को बढ़ावा देने के लिए किसानों को अधिक से अधिक प्रेरित किया जाए। इसके अलावा, कपास की फसल पर सम्भावित ‘पिंक वार्म’ के प्रकोप से बचने के लिए भी अभी से ही अभियान चलाया जाना चाहिए, क्योंकि पड़ोसी राज्य पंजाब में ‘पिंक वार्म’ आने की जानकारी मिल रही है।

वर्ष 2021-22 के दौरान केन्द्र सरकार ने इस मिशन के लिए 4013.86 लाख रुपये की कार्य योजना मंजूर  की थी, जिसमें  किसानों को प्रमाणित बीज, कलस्टर प्रदर्शन खेत, माइक्रोन्यूट्रेंट, कृषि मशीनरी, समेकित कीट प्रबन्धन तथा फसल एवं मृद्धा सुरक्षा प्रबन्धन के लिए सब्सिडी दी जाती है।

महत्वपूर्ण खबर: सिंचाई उपकरण हेतु 27 जुलाई से 4 अगस्त तक आवेदन पत्र आमंत्रित

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.