राज्य कृषि समाचार (State News)

टीकमगढ़ में कृषि स्टार्टअप और उद्यमिता पर प्रशिक्षण आयोजित

Share

25 मई 2024, टीकमगढ़: टीकमगढ़ में कृषि स्टार्टअप और उद्यमिता पर प्रशिक्षण आयोजित – कृषि विज्ञान केंद्र टीकमगढ़ एवं जवाहर-राबी (आर-एबीआई) आरकेवीवाई-रफ्तार कृषि व्यवसाय इनक्यूबेटर कृषि व्यवसाय प्रबंधन संस्थान, जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय जबलपुर के संयुक्त तत्वावधान में स्टार्टअप और उद्यमिता विषय पर आज प्रशिक्षण का आयोजन विवेकानन्द सभागार में किया गया।

प्रशिक्षण में कृषि क्षेत्र में कौन-कौन से स्टार्टअप किए जा सकते हैं, युवाओं को बेहतर भविष्य एवं रोजगार प्रदान करने में किस तरीके से कार्य कर सकता है, इस विषय पर बिंदु बार ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के माध्यम से विस्तार से जानकारी प्रदान की गई।बेर का शरवत बनाने में महिला कृषक श्रीमती रानी राना निवासी माडूमर में केंद्र के सहयोग से व्यवसाय स्थापित करने के साथ ही जिले एवं राज्य स्तर पर पुरस्कार भी प्राप्त कर चुकी हैं। गन्ने की टॉफी बनाने में कृषक श्री प्रीतम लोधी निवासी लड्वारी, बल्देवगढ़, महिला कृषक श्रीमति रामादेवी साहू निवासी बीना, सागर ने कृषक भाईयों को कृषि कार्य हेतु विशेष वस्त्र तैयार किया जिसे किसान कवच के नाम से प्रसिद्दी मिली। पिछली वर्ष निवाड़ी के कृषक को एग्री स्टार्टअप पर पुरस्कार मिल चुका है तथा जिले में 3 महिला स्व-सहायता समूह द्वारा मशरूम उत्पाद बनाकर स्वयं रोजगार सृजन किया।

प्रशिक्षण के दौरान बताया गया कि भारत सरकार के माध्यम से विभिन्न प्रकार की कृषि क्षेत्र में स्टार्टअप योजनाओं हेतु वित्तीय सहयोग प्रदान किया जाता है। इस दौरान कृषि विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख डॉ. बी. एस. किरार द्वारा कृषि क्षेत्र में स्टार्टअप हेतु नवाचार के माध्यम से वित्तीय योजनाओं का लाभ लेकर भविष्य संवारने हेतु एक बेहतर रोजगार निर्माण में यह प्रशिक्षण मील का पत्थर साबित होगा। उन्होंने बताया कि एक नवाचार एवं तकनिकी ज्ञान स्वयं को रोजगार देने के साथ ही अन्य लोगों को रोजगार प्रदान में प्रमुख भूमिका निभा सकता है।

प्रशिक्षण के दौरान कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिक डॉ. आर.के. प्रजापति, डॉ. एस.के. सिंह, डॉ. यू.एस. धाकड़, डॉ. एस.के. जाटव, डॉ. आई.डी. सिंह एवं यंग प्रोफेशनल जयपाल छिगारहा ने जैविक खेती, प्राकृतिक खेती एवं जैव उत्पाद के क्षेत्र में स्टार्टअप हेतु महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की, साथ ही एक जिला एक उत्पाद के अंतर्गत अदरक के विभिन्न उत्पाद एवं हॉर्टिकल्चर क्षेत्र में विभिन्न प्रकार के नवाचार को किस तरीके से स्टार्टअप के रूप में कार्य किया जा सकता है। इस विषय में विस्तार से जानकारी प्रदान की गई।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

Share
Advertisements