वन विभाग द्वारा 1.12 करोड़ पौधे लगाने का लक्ष्य पूरा

Share

06 जनवरी 2023, चंडीगढ़: वन विभाग द्वारा 1.12 करोड़ पौधे लगाने का लक्ष्य पूरा – मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व अधीन पंजाब सरकार राज्य में वन अधीन क्षेत्रफल बढ़ाने के लिए पूरी तरह वचनबद्ध है, जिसका पता इस तथ्य से लगता है कि वन और वन्य जीव सुरक्षा विभाग द्वारा 2022 के दौरान 1.12 करोड़ पौधे लगाने का लक्ष्य पूरा कर लिया गया।

अब तक शहीद भगत सिंह हरियावल लहर के अंतर्गत 54 लाख पौधे लगाए जा चुके हैं जबकि अन्य अलग-अलग स्कीमों के अंतर्गत 58 लाख पौधे लगाए गए हैं।

वन और वन्य जीव सुरक्षा मंत्री लाल चंद कटारूचक्क के दूरदर्शी नेतृत्व अधीन विभाग ने अगले साल 3 करोड़ पौधे लगाने का लक्ष्य निश्चित किया है जिसके लिए विभाग कोई कसर बाकी नहीं छोड़ेगा।

इसके इलावा, पंजाब वन विकास कारपोरेशन की पिछले साल हुई 36 करोड़ रुपए की आय के मुकाबले साल 2022 के पहले 7 महीनों के दौरान कारपोरेशन को 29 करोड़ रुपए की आय हुई है जो जल्द ही पिछले साल के आंकड़े को पार कर लेगी। इसके साथ ही राज्य भर में नर्सरी इंचार्जों का प्रशिक्षण प्रोग्राम 17 नवंबर से होशियारपुर में शुरू हो गया है, जिसमें पहाड़ी क्षेत्रों की नर्सरियों के इंचार्जों को पहल दी जा रही है।

’पवित्र वन’( 1 या 2 हेक्टेयर क्षेत्रफल में पौधे लगाना), नानक बग़ीची और शहीद भगत सिंह हरियावल लहर जैसी पहलकदमियां पूरे जोरों-शोरों से चल रही हैं जिससे हरियाली के अधीन क्षेत्रफल बढ़ा कर साफ़ और स्वच्छ वातावरण बनाने का रास्ता साफ किया जा सके।

रोपड़ में सदाबरसत जंगल और गुरदासपुर में केशोपुर तालाब विकिसत करना भी विभाग की प्रमुख प्राथमिकता है और इन क्षेत्रों को आकर्षण का केंद्र बनाने के लिए यहाँ सहूलतें प्रदान करने पर ज़ोर दिया जा रहा है।

एक अन्य पहलकदमी के अंतर्गत विभाग के कर्मचारियों को वर्दियाँ मुहैया करवाना शामिल है, जोकि प्रगति अधीन है। इससे विभाग को एक नयी छवि मिलने के साथ-साथ कर्मचारियों का आत्म-विश्वास भी बढ़ेगा।

कुछ प्रोजैक्ट जैसे कि फगवाड़ा-चंडीगढ़ सडक़ पर अलग-अलग किस्मों के पौधे लगा कर सौंदर्यीकरण करना विचाराधीन है।

महत्वपूर्ण खबर: कपास मंडी रेट (05 जनवरी 2023 के अनुसार)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़टेलीग्राम )

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *