छात्रों और शिक्षकों को विश्व मंच से मिलेगा कृषि की आधुनिकतम तकनीकों का ज्ञान

Share

कृषि विश्वविद्यालय में नेशनल हायर एजुकेशन प्रोजेक्ट का शुभारंभ

ग्वालियर । राजमाता विजयाराजे सिंधिया कृषि विश्वविद्यालय की यह बड़ी उपलब्धि है कि उसे नेशनल हायर एजुकेशन प्रोजेक्ट मिला है। इस प्रोजेक्ट के जरिए यहां के विद्यार्थियों एवं शिक्षकों को विदेशों के प्रतिष्ठित कृषि संस्थानों में कृषि की आधुनिकतम तकनीकों के अध्ययन करने का मौका मिलेगा जिससे वे उच्च अध्ययन कर भारत में वापस आकर देश के कृषि विकास में महत्वपूर्ण योगदान दे सकेंगे।
राजमाता विजयाराजे सिंधिया कृषि विश्व विद्यालय में नेशनल हायर एजुकेशन प्रोजेक्ट के शुभारंभ अवसर पर यह बात भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के उपमहानिदेशक शिक्षा एवं प्रोजेक्ट के निदेशक डॉ. आर. सी अग्रवाल ने मुख्य अतिथि की आसंदी से कही।
डॉ. अग्रवाल ने कहा कि दुनिया की जनसंख्या तेजी से बढ़ रही है एवं जैव संपदा में कमी आ रही है ऐसे में कृषि शिक्षा में सुधार की बहुत जरुरत है तभी हम भविष्य की खाद्यान्न जरुरतों को पूरा कर सकेंगे। समारोह के प्रारंभ में अधिष्ठाता कृषि संकाय डॉ. मृदुला बिल्लौरे ने ग्वालियर में नेशनल हायर एजुकेशन प्रोजेक्ट की रुपरेखा पर विस्तार से प्रकाश डाला। प्रोजेक्ट के नेशनल कोर्डिनेटर डॉ. पी. राम. सुंदरम ने कहा कि वल्र्ड बैंक ने भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के माध्यम से देश के कृषि विश्वविद्यालयों की शिक्षा अधोसंरचना के नवीनीकरण एवं उद्यमिता विकास को बढ़ावा देने के लिए यह प्रोजेक्ट प्रारंभ किया है। नाबार्ड के जनरल मैनेजर एस. के. बंसल ने कहा कि गांवों में किसानों की स्थिति सुधरे उसके लिए जरुरी है अब गांव का युवा किसान उसे कृषि उद्यमी के रुप में बदले। कृषि और व्यवसाय का गठजोड़ ही ग्रामीणों और किसानों की आर्थिक स्थिति में बदलाव लाएगा। कुलपति प्रो. एस. के. राव ने प्रोजेक्ट को छात्रों में कौशल विकास एवं उन्हें स्वरोजगार का मंच देने की दिशा में महत्वपूर्ण बताया एवं कहा कि इससे शिक्षकों एवं छात्रों को वैश्विक कृषि संस्थानों में प्रशिक्षण का मौका मिलेगा। इस समारोह का संचालन डॉ. एकता जोशी ने किया एवं आभार डॉ. अखिलेश सिंह ने जताया। इस अवसर पर मंचासीन रानी लक्ष्मीबाई केन्द्रीय कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. अरविन्द कुमार, अधिष्ठाता कृषि महाविद्यालय डॉ. जे. पी. दीक्षित सहित कुलसचिव डी. एल. कोरी, पूर्व कुलपति प्रो. व्ही. एस. तोमर, डॉ. ए. एस. तिवारी व शिक्षकगण, वैज्ञानिक एवं छात्र छात्राएं मौजूद थे।
समारोह में कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. एस. के. राव ने ग्वालियर स्मार्ट सिटी के सीईओ महीप तेजस्वी, कैट दिल्ली के राष्ट्रीय सचिव भूपेन्द्र जैन, आईईईडी अहमदाबाद के हरीश मेवाती एवं नाबार्ड के चीफ जनरल मैनेजर श्री एस. के. बंसल के साथ कृषि एवं कौशल विकास के साथ प्रोजेक्ट के माध्यम से आपसी सहयोग के बारे में एमओयू साइन किए।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.