जनेकृविवि के कुलसचिव श्री रेवासिंह सिसोदिया ने किया जैविक खेती के सर्वोत्तम आदान जैव उर्वरक केंद्र का भ्रमण

Share

10 फरवरी 2022, जबलपुर । जनेकृविवि के कुलसचिव श्री रेवासिंह सिसोदिया ने किया जैविक खेती के सर्वोत्तम आदान जैव उर्वरक केंद्र का भ्रमण जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डाॅं. प्रदीप कुमार सिंह की प्रेरणा एवं मार्गदर्शन में संचालित सूक्ष्मजीव अनुसंधान एवं उत्पादन केंद्र (जवाहर जैव उर्वरक केंद्र) में विश्वविद्यालय के कुलसचिव श्री रेवासिंह सिसोदिया द्वारा भ्रमण किया गया केंद्र के प्रभारी एवं विभागाध्यक्ष डाॅं. एन जी मित्रा द्वारा केंद्र में चल रहे शोध कार्य एवं विभिन्न प्रकार के जैविक खेती के सर्वोत्तम गुणवत्ता से पूर्ण उत्पाद के बारे में विस्तार से जानकारी प्रदान की। इस दौरान श्री सिसोदिया द्वारा केंद्र के समस्त कार्यों एवं शोध के बारे में जानकारी प्राप्त की, उन्होंने कहा देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के सपनों को साकार करने में निरंतर जनेकृविवि कार्य कर रहा है। इसी कड़ी में यह केंद्र वर्ष 1976 से आर्गेनिक खेती को बढ़ावा दे रहा है।

वर्तमान में विश्वविद्यालय में 150 एकड़ में जैविक खेती हो रही है। जैविक बीज से लेकर 15 तरह के उत्तम गुणवत्ता वाले आर्गेनिक खाद (जवाहर जैव उर्वरक) और जैविक कीटनाशक जनेकृविवि उपलब्ध कराने में सक्षम है। कृषक समुदायों के लिए अच्छी गुणवत्ता वाले पर्यावरण हितैषी, कम लागत एवं विश्वसनीय 15 प्रकार के जैविक खेती के सर्वोत्तम आदान जैव उर्वरकों (तरल एवं पाऊडर) का उत्पादन कार्य किया जा रहा है। जैसे-जवाहर राइजोबियम, जवाहर एजोटोबेक्टर, जवाहर एजोस्पाइरिलम, जवाहर एसिटोबेक्टर, जवाहर पी.एस.बी., जवाहर के.एस.बी., जवाहर जेड.एस.बी., जवाहर स्यूडोमोनास, जवाहर ई.एम. कल्चर, जवाहर बायोफर्टिसॉल, जवाहर ट्राईकोडर्मा, जवाहर नील-हरित शैवाल, जवाहर माइकराईजा, जवाहर जैव विघटक (कवक) जवाहर जैव विघटक (जीवाणु) आदि यह सभी जैविक कृषि उत्पाद की विस्तार से जानकारी कुलसचिव श्री सिसोदिया द्वारा प्राप्त की गई एवं केंद्र द्वारा किए जा रहे किसान हितैषी कार्यों हेतु प्रशंसा एवं सराहना की। इस दौरान वरिष्ठ वैज्ञानिक डाॅं. शेखर सिंह बघेल, वैज्ञानिक डाॅं. राकेश साहू, डाॅं. अमित उपाध्याय, डाॅं. जी एस टैगोर एवं बबलू यदुवंशी तकनीकी सहायक, विकास पटेल आदि की उपस्थिति रहे।

महत्वपूर्ण खबर: किसी दिन निमाड़ का अपना एप्पल होगा- खरगोन का एक किसान

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.