राज्य कृषि समाचार (State News)

राजस्थान कृषि विभाग ने प्रदर्शनियों में कृषकों को जैविक उत्पादों और कृषि नवाचारों की जानकारी दी

Share

06 जनवरी 2023, जयपुर: राजस्थान कृषि विभाग ने प्रदर्शनियों में कृषकों को जैविक उत्पादों और कृषि नवाचारों की जानकारी दी – राज्य सरकार के चार वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य पर प्रदेश भर में कृषि विभाग द्वारा आयोजित प्रदर्शनियों में विभाग द्वारा संचालित समस्त योजनाओं की जानकारी विभाग के अधिकारियों द्वारा मौके पर दी जा रही है।

कृषि आयुक्त श्री कानाराम ने बताया कि प्रदर्शनियों में किसानों के लिए विशेष रुप से बायोपेस्टिसाइड, जैविक खाद, वर्मी कंपोस्ट एवं मृदा स्वास्थ्य की जानकारी के साथ-साथ मौके पर मिट्टी, पानी की जांच लैब भी प्रदर्शित की गई। उन्होंने बताया कि स्टॉलों पर विभाग द्वारा विभिन्न विभागीय योजनाओं की प्रदर्शनी लगाई गई, जिनमे सिंचाई पाइप लाइन, प्रधानमंत्री कृषक ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्थान योजना, राजस्थान कृषि प्रसंस्करण, कृषि व्यवसाय एवं कृषि निर्यात प्रोत्साहन योजना, राज किसान साथी पोर्टल, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, राजस्थान कृषि तकनीक मिशन, राजस्थान कृषि बीज उत्पादन एवं वितरण मिशन, राजस्थान सूक्ष्म सिंचाई मिशन, राष्ट्रीय बागवानी मिशन एवं राष्ट्रीय कृषि विकास योजना, ग्रीन हाउस एवं शेडनेट हाउस की स्थापना, कृषि ज्ञान धारा कार्यक्रम, सोयल हेल्थ कार्ड और जैविक खेती की जानकारी और किए गए कार्यों की फोटो प्रदर्शनी लगाई गई। फोटो प्रदर्शनी का प्रदेशभर में लगभग एक लाख 40 हजार से अधिक कृषको द्वारा अवलोकन किया गया और योजनाओं की जानकारी ली गई।

कृषि में जैविक उत्पाद एवं नवाचार-

कृषि आयुक्त ने बताया कि कृषि विभाग द्वारा पूरे प्रदेश में नवाचार कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं, जिनके तहत कृषकों को संगठित करके एक एक्टिव संस्था कृषि उत्पादन संगठन (एफ पी ओ) का गठन किया गया है। प्रदर्शनी में विभिन्न जिलों में प्रगतिशील किसानों द्वारा लाए गए उत्पाद भी प्रदर्शित किए गए। जिनमें जालौर से श्री बेना राम द्वारा लाए जैविक अनार, श्री गंगानगर के किसान श्री ओमप्रकाश के अंजीर के उत्पाद, सीकर के श्री राजकुमार शर्मा की मशरुम, कोटा के किसान श्री नरेंद्र द्वारा लाए गए सरसों व अजवान का जैविक शहद और कोटपुतली से आए कृषक श्री कैलाश चंद के उपज के आंवला और एलोवेरा के उत्पादों में आगंतुकों ने खास रुचि दिखाई। जैविक खेती और नवाचार के लिए राजस्थान के सांभर उपखंड के रहने वाले कृषक गंगाराम सेपट ने दूसरे किसानों को भी प्रेरित किया। इनके द्वारा लाए गए जैविक स्ट्रॉबेरी के साथ-साथ वे ब्रोकली, लेट्युस, खीरा, मिर्ची,स्वीट कॉर्न, टिंडे और चेरी टमाटर प्रदर्शनी में चर्चा के विषय रहे। साथ ही ड्रोन सोलर पंप मिनी पॉलीहाउस फार्म पॉन्ड आदि की जानकारी भी दी गईं।

कृषि में मोबाइल का उपयोग-

प्रदर्शनियो में कृषि सेवाओं तक पहुंचने के लिए मोबाइल फोन के उपयोग की जानकारी भी दी गई। मोबाइल फोन से किसान मौसम के पूर्वानुमान, बाजार मूल्य और कृषि संबंधी अन्य जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं। यह तकनीक किसानों को उनके संबंधित क्षेत्रों में नवीनतम विकास के बारे में सूचित करने और तदनुसार उनकी कृषि गतिविधियों की योजना बनाने में मदद करती हैं।

कृषि आयुक्त ने बताया की प्रदर्शनियां नए विचारों, प्रौद्योगिकियों और नवीन अवधारणाओं को साकार करने में किसानों की सहायता करने के लिए समर्पित एक मंच है। प्रदर्शनियो का उद्देश्य समुदाय के लोगों को सरकार की योजनाओं की जानकारी प्रदान करना है, जिससे आम जनता को ज्यादा से ज्यादा फायदा हो सके।

महत्वपूर्ण खबर: कपास मंडी रेट (05 जनवरी 2023 के अनुसार)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़टेलीग्राम )

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *