राज्य कृषि समाचार (State News)

झारखंड में किसानों के दो लाख रुपये तक का ऋण माफ करने की योजना

Share

24 जून 2024, रांची: झारखंड में किसानों के दो लाख रुपये तक का ऋण माफ करने की योजना – झारखंड के मुख्यमंत्री श्री चम्पाई सोरेन ने बताया कि झारखंड कृषि ऋण माफी योजना के तहत दो लाख रुपये तक का ऋण माफ करने की योजना है। इससे पहले किसानों का 50 हजार रुपये तक का लोन माफ किया गया था। अब जिन किसानों का कृषि ऋण बकाया है, उनके एनपीए (नॉन-परफॉर्मिंग एसेट्स) माफी के लिए बैंकों से बातचीत की जानी चाहिए, ताकि सरकार की इस योजना का अधिक से अधिक किसानों को लाभ मिल सके। मृतक लाभुकों का सही तरीके से सत्यापन कर ऋण माफी की राशि का भुगतान किया जाए।

श्री चम्पाई सोरेन

मुख्यमंत्री श्री सोरेन ने कृषि, पशुपालन एवं सहकारिता विभाग के अधिकारियों के साथ उच्च स्तरीय बैठक की। बैठक में योजनाओं एवं कार्यक्रमों की प्रगति की समीक्षा की गई । मुख्यमंत्री ने किसानों के एनपीए (नॉन-परफॉर्मिंग एसेट्स) माफी के लिए बैंकों से बातचीत करने का निर्देश दिया और सुनिश्चित किया कि किसानों को समय पर खाद-बीज और अन्य कृषि सामग्रियां उपलब्ध कराई जाएं।

किसानों की समृद्धि से राज्य की अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती

मुख्यमंत्री ने कहा, किसानों के बीच समय पर खाद-बीज का वितरण और अन्य कृषि सामग्रियों की उपलब्धता सुनिश्चित की जानी चाहिए, ताकि वे इसका पूरा लाभ उठा सकें और  सभी लैम्प्स- पैक्स के नोटिस बोर्ड पर खाद-बीज की उपलब्धता की जानकारी डिस्प्ले होनी चाहिए, ताकि किसानों को सुलभता से इसकी जानकारी मिल सके। श्री चम्पाई सोरेन ने निर्देश दिए कि राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में जल स्तर में भिन्नताएं हैं। किसी भी क्षेत्र में बोरिंग वहां के भूमिगत जल स्तर को ध्यान में रखते हुए किया जाना चाहिए, ताकि यह सफल हो सके। कृषि समृद्धि योजना के तहत किसानों के बीच पंप सेट वितरित किए जाने हैं।

मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना

मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना सरकार की एक महत्वाकांक्षी योजना है। इस योजना के तहत किसानों को पशुधन सुलभता से मिल सके, इसके लिए पशु के साथ शेड और अन्य जरूरी सुविधाएं भी उपलब्ध कराई जानी चाहिए। कृषि विभाग के सभी निदेशालय समन्वय बनाकर काम करें। मुख्यमंत्री ने बकरी पालन पर विशेष जोर दिया और जिला स्तर पर बकरी फार्म बनाने का निर्देश दिया।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

कृषक जगत ई-पेपर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.krishakjagat.org/kj_epaper/

कृषक जगत की अंग्रेजी वेबसाइट पर जाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements