राज्य कृषि समाचार (State News)

विदिशा में खाद, बीज एवं कीटनाशक औषधि दुकानों का निरीक्षण  

Share

28 मई 2024, विदिशा: विदिशा में खाद, बीज एवं कीटनाशक औषधि दुकानों का निरीक्षण – विदिशा जिले के किसानों को खरीफ सीजन में उच्च गुणवत्ता पूर्ण बीज, उर्वरक एवं कीटनाशक औषधियां उपलब्ध हो सके इस हेतु उप संचालक  ( कृषि )  जिला विदिशा द्वारा जिला स्तरीय गुण नियंत्रण निरीक्षण दल का गठन किया गया है।  इस दल द्वारा जिले के समस्त  विकासखण्डों में स्थित लाइसेंस धारी उर्वरक, बीज एवं कीटनाशक दवा विक्रेताओं के प्रतिष्ठानों का निरीक्षण किया जाना है। इसी प्रकार विकासखण्ड स्तर पर  विकासखण्ड स्तरीय निरीक्षक द्वारा सतत निरीक्षण एवं नमूने  लिए जाकर परीक्षण हेतु प्रयोगशालाओं को भेजे जाने है।

इसी तारतम्य में जिला स्तरीय निरीक्षण दल के द्वारा विदिशा के मेसर्स बंसल ट्रेडर्स, मेसर्स सीडवाला बाबा, मे. काश्तकार सीडस, मे. गरिमा एग्रो केमिकल्स, मे. मधुसूदन बीज भण्डार, मे. दांगी कृषि सेवा केंद्र, मे. हार्टिका बीज भण्डार आदि के प्रतिष्ठानों का निरीक्षण किया गया एवं उच्च  गुणवत्ता पूर्ण कृषि आदान सामग्री प्रदाय हेतु आवश्यक दिशा-निर्देश दिये गये । इस दौरान दल द्वारा विभिन्न प्रतिष्ठानों से बीज के 40 एवं उर्वरक के 11 नमूने लिये जाकर परीक्षण हेतु प्रयोगशालाओं को भेजे गये।

जिला स्तरीय निरीक्षण दल में श्री महेन्द्र ठाकुर ,सहायक संचालक कृषि , श्री आर के शर्मा वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी विदिशा, श्री हरिहर सिंह राजपूत, कृषि विकास अधिकारी विदिशा एवं श्री सुनील कुमार त्रिपाठी कृ.वि.अधिकारी विदिशा उपस्थित रहे। निरीक्षण के दौरान विक्रेताओं के लाइसेंस, स्टॉक पंजी, वितरण रजिस्टर एवं बिल बुक आदि की जांच की गई। साथ ही गोदाम का निरीक्षण कर उपलब्ध स्टॉक का भौतिक सत्यापन किया गया।

विभाग के उप संचालक श्री के.एस. खपेडिया ने समस्त आदान विक्रेताओं से  आह्वान  किया है कि अपने प्रतिष्ठानों पर उच्च गुणवत्ता पूर्ण कृषि आदान सामग्री ही विक्रय करें एवं कृषक को पक्का बिल अवश्य उपलब्ध  करें । निरीक्षण के दौरान किसी भी विक्रेता के प्रतिष्ठान पर  अनियमितता पाए जाने पर उसके विरूद्ध गुण नियंत्रण एक्ट  के तहत नियमानुसार वैधानिक कार्यवाही की जावेगी।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

Share
Advertisements