जीएसएफसी का अमोनियम सल्फेट- सभी फसलों के लिए लाभदायी

Share

20 अगस्त 2022, भोपाल: जीएसएफसी का अमोनियम सल्फेट- सभी फसलों के लिए लाभदायी – गुजरात स्टेट फर्टिलाइजर एंड केमिकल्स लि. (जीएसएफसी) का अमोनियम सल्फेट उर्वरक नाइट्रोजन एवं सल्फर का संतुलित स्रोत है। यह अत्यधिक वर्षा या कम वर्षा दोनों ही स्थिति में होने वाले नुकसान से फसल को बचाता है। अमोनियम सल्फेट सभी प्रकार की फसलों के लिए लाभदायक है जैसे सोयाबीन एवं अन्य तिलहनी फसलों में तेल तत्व का प्रतिशत बढ़ाता है, धान की गुणवत्ता बढ़ाता एवं फल सब्जियों को रसदार बनाता है।

सोयाबीन में अमोनियम सल्फेट के फायदे –

सोयाबीन में दाने बनने के समय सल्फर की उचित मात्रा सोयाबीन में प्रोटीन और तेल प्रतिशत में सुधार के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। बीज बनने के दौरान सोयाबीन में समुचित प्रोटीन निर्माण के लिए सल्फर और नाइट्रोजन पोषण में संतुलन बहुत ही महत्वपूर्ण है। सल्फर आपूर्ति के लिए परंपरागत सल्फर युक्त उर्वरकों से पौधों को तुरंत और पर्याप्त सल्फर नहीं मिल पाता है, क्योंकि पौधे सल्फर का अवशोषण सिर्फ सल्फेट (स्श4) के रूप में ही करते हैं। ऐसे में सोयाबीन जैसी कम दिनों की फसलों में सल्फर की तुरंत और लगातार आपूर्ति के लिए सल्फेट उर्वरक ज्यादा असरदार और प्रभावी है।

उर्वरक की विशेषताएं –

जलभराव की स्थिति में मददगार। द्य तिलहनी फसलों में तेल की मात्रा में बढ़ोतरी। द्य यूरिया के बदले उपयोग करें। द्य अमोनिकल नाइट्रोजन होने के कारण नाइट्रोजन तत्व धीरे धीरे घुलता है, इसलिए पौधों को लम्बे समय तक नाइट्रोजन की उपलब्धि। द्य सल्फऱ का संतुलित स्रोत – 23 प्रतिशत, मतलब प्रति 50 किलो की बोरी से साढ़े ग्यारह किलो सल्फर। द्य अच्छी और गुणवत्ता युक्त पैदावार से किसान की आवक में बढ़ोतरी।

महत्वपूर्ण खबर: सोयाबीन में पीला मोज़ेक रोग के नियंत्रण के लिए सलाह

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.