किसानों को एकमुश्त राशि देने की योजना बनाएगी सरकार

Share

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने 5 लाख किसानों के खातों में 100 करोड़ रूपये की राशि अंतरित की

04 नवम्बर 2020, भोपाल। किसानों को एकमुश्त राशि देने की योजना बनाएगी सरकार मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश सरकार वर्तमान में किसानों को विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत दी जाने वाली सब्सिडी की राशि अब उनके खाते में एक मुश्त अंतरित करने की योजना बना रही है। उन्होंने कहा कि ग्रामवासियों को जमीन एवं मकान पर स्वामित्व प्रदान किया जायेगा, जिससे वे उस पर बैंक ऋण आदि सुविधाएं प्राप्त कर सकेंगे। आगमी तीन वर्षां में जिनके कच्चे मकान हैं, उन्हें पक्के मकान बनाने के लिये सरकार की ओर से सहायता प्रदान की जायेगी। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना के अंतर्गत प्रदेश के पांच लाख किसानों को (उपचुनाव वाले 19 जिलों को छोड़कर) दो-दो हजार रुपए के मान से कुल 100 करोड़ रुपए की राशि का उनके खातों में सिंगल क्लिक के माध्यम से ट्रान्सफर की गयी।

महत्वपूर्ण खबर : प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत अनुसूचित जाति के किसानों से आवेदन आमंत्रित

प्रति वर्ष मिलेंगे 10 हजार रूपये

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किसानों को प्रधानमंत्री किसान कल्याण योजना में प्रति वर्ष तीन किश्तों में 2-2 हजार रूपये की राशि, कुल 6 हजार रूपये प्रदान की जा रही है। इसके अलावा मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना में अब उन्हें वर्ष में दो बार 2-2 हजार रूपये की राशि प्रदान की जायेगी। इस प्रकार प्रति वर्ष किसान के खाते में कुल 10 हजार रूपये की राशि प्राप्त होगी। इस योजना से प्रदेश के लगभग 80 लाख किसान लाभांवित हो रहे हैं।

किसान को नहीं लेनी होगी पेड़ लगाने/काटने की अनुमति

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कृषि वानिकी के अंतर्गत अभी किसानों को पेड़ लगाने व काटने के लिए जटिल प्रक्रिया से गुजरना होता है। इस संबंध में नया कानून बनाया जाएगा, जिससे उन्हें पेड़ लगाने, काटने व विक्रय करने के लिए कोई अनुमति की आवश्यकता नहीं होगी।

मक्के की प्रोत्साहन राशि

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि सरकार द्वारा धान एवं बाजरे की खरीदी शीघ्र प्रारंभ की जाएगी तथा मक्के के लिए प्रोत्साहन राशि किसानों के खातों में पहुंचाई जाएगी।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.