डिजिटल किसान क्रेडिट कार्ड (KCC) से होगा किसानों का काम आसान

Share

20 सितम्बर 2022, मुंबई डिजिटल किसान क्रेडिट कार्ड (KCC) से होगा किसानों का काम आसान – यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने कल किसान क्रेडिट कार्ड (KCC) के डिजिटलीकरण की घोषणा की। यह फ्लैगशिप डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन प्रोजेक्ट ‘संभव’ के हिस्से के रूप में केसीसी उत्पाद को डिजिटल बनाने वाला पहला बैंक होगा। उत्पाद का उद्देश्य केसीसी ऋण देने की प्रक्रिया को डिजिटल बनाना है, जिससे यह अधिक कुशल और किसान अनुकूल हो।

किसान क्रेडिट कार्ड का डिजिटलीकरण रिजर्व बैंक इनोवेशन हब (RBIH) के सहयोग से यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की एक नई पहल है।

डिजिटल किसान क्रेडिट कार्ड (KCC) के लाभ

  1. यह किसानों के सामने आने वाली चुनौतियों को दूर करने में मदद करेगा जैसे कि बैंक शाखा में व्यक्तिगत रूप से जाना,भूमि स्वामित्व और अन्य दस्तावेज जमा करना, और केसीसी प्राप्त करने में कम समय लगना ।
  2. केसीसी ऋण की प्रक्रिया कोआसान बनाना।
  3. किसी शाखा में जाने की आवश्यकता नहीं है।
  4. कोई दस्तावेज़ जमा करने की आवश्यकता नहीं है।
  5. कृषि भूमि सत्यापन ऑनलाइन किया जाएगा। पूरी मंजूरी और वितरण प्रक्रिया कुछ घंटों में पूरी हो जाती है।

मध्य प्रदेश के हरदा से शुरुआत

मध्य प्रदेश के हरदा जिले में यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के एमडी और सीईओ सुश्री ए मणिमेखलाई द्वारा केसीसी डिजिटल पायलट प्रोजेक्ट के रूप में लॉन्च किया गया, इस कार्यक्रम में रिजर्व बैंक इनोवेशन हब (आरबीआईएच) के मुख्य उत्पाद प्रबंधक श्री राकेश रंजन ने भाग लिया।

लॉन्च इवेंट में, सुश्री ए मणिमेखलाई ने ग्रामीण वित्त पोषण में केसीसी डिजिटलीकरण के महत्व के बारे में बताया। उन्होंने मोबाइल हैंडसेट के माध्यम से सीधे केसीसी डिजिटलीकरण के लाभों के बारे में भी जानकारी दी।

महत्वपूर्ण खबर:बिलकिसगंज में महिला संसाधन केन्द्र का उद्घाटन

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.