राज्य कृषि समाचार (State News)

छत्तीसगढ़ में कृषक प्रशिक्षण कार्यक्रम : तिलहन व लघुधान्य फसलों को देंगे बढ़ावा

Share

08 सितम्बर 2023, रायपुर: छत्तीसगढ़ में कृषक प्रशिक्षण कार्यक्रम : तिलहन व लघुधान्य फसलों को देंगे बढ़ावा – छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा किसानों को दलहन-तिलहन व लघुधान्य फसलों को बढ़ावा देने के लिए अनेक योजनाएं शुरू की है। 6 सितंबर को जिले में तिलहन फसलो के विस्तार सहित उनकी उत्पादकता बढ़ाने के उद्देश्य से राष्ट्रीय खाद्यान्न सुरक्षा मिशन तिलहन योजना के तहत कृषक प्रशिक्षण का आयोजन किया गया।

डॉ. रामचन्द्र सिंहदेव कृषि महाविद्यालय, बैकुण्ठपुर में पदस्थ डॉ. राहुल आर्य द्वारा जिले में तिलहनी फसलों के रकबे में वृद्धि, उत्पादन एवं उत्पादकता को बढ़ाने के संबंध में विस्तार से जानकारी दी, वहीं सहायक प्राध्यापक, डॉ. सुनील कुमार सिंह  ने खरीफ एवं रबी सीजन की प्रमुख तिलहनी फसलें मूंगफली, तिल, रामतिल, सरसों, अलसी आदि फसलों की उन्नत व आधुनिक तकनीक के संबंध में फसलवार उन्नत बीज बोने की विधि से लेकर फसल कटाई, छटाई एवं संग्रहण की जानकारी दी गई।

सहायक प्राध्यापक, पुनेश्वर सिंह पैकरा द्वारा तिलहनी फसलों में लगने वाली कीट व उनसे होने वाले प्रकोप के बारे में जानकारी दी।

कृषकों को तिलहनी फसलों की उपयोगिता को बताते हुए अधिक से अधिक रकबे में फसल लेने हेतु प्रेरित किया गया, साथ ही कृषकों को लघु धान्य रागी, कोदो-कुटकी आदि फसलों के पौष्टिक महत्व के संबंध में कृषकों को अवगत कराया गया।

कृषि विज्ञान केन्द्र सलका के कृषि वैज्ञानिक श्री पी. आर. बोबड़े द्वारा तिलहनी फसलों में खाद-उर्वरक मात्रा सिंचाई आदि के संबंध में किसानों को जानकारी दी साथ ही विषय वस्तु विशेषज्ञ द्वारा कृषि विभाग में संलग्न विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी प्रदान की गई।

प्रशिक्षण में शामिल कृषकों को लघु धान्य फसलों की खेती करने हेतु प्रोत्साहित भी किया गया।  श्री पी.एल. तिवारी द्वारा कृषि विभाग द्वारा संचालित विभिन्न कल्याणकारी योजना जैसे किसान समृद्धि योजना, सौर सुजला योजना, कृषि यांत्रिकीकरण प्रोत्साहन योजना आदि योजनाओं के संबंध में किसानों को विस्तार से जानकारी देकर लाभ उठाने हेतु प्रेरित किया। प्रशिक्षण में कृषि वैज्ञानिक, विभागीय कृषि अधिकारी और विकासखण्ड सोनहत एवं बैकुण्ठपुर के किसान उपस्थित रहे।

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्राम )

Share
Advertisements