नहर को 30 साल बाद जीवनदान मिला

Share

10 अगस्त 2021, रायपुरनहर को 30 साल बाद जीवनदान मिलाबालोद जिले के भाठागांव में तान्दुला केनाल पर निर्मित भाठागांव उद्वहन सिंचाई योजना से 6 गांवों केे 1538 हेक्टेयर रकबे में सिंचाई के लिए लगभग 30 वर्षों बाद फिर से जलापूर्ति होगी। वर्ष 1989 में बनी यह उद्वहन सिंचाई योजना नहर में टूट-फूट एवं मशीनरी में खराबी के चलते वर्ष 1992 से बंद हो गई थी। लगभग 30 सालों से मृतप्राय पड़ी इस उद्वहन सिंचाई योजना को मुख्यमंत्री की विशेष पहल पर नया जीवन मिल गया है।

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने वर्षों से अनुपयोगी पड़ी भाठागांव उद्वहन सिंचाई योजना की मरम्मत कराकर फिर से सिंचाई के लायक बनाने के लिए न सिर्फ 5 करोड़ 51 लाख 76 हजार रूपए की स्वीकृति दी, बल्कि इसके जीर्णोंद्धार की कार्य को भी समय-सीमा में पूरा कराने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए

भाठागांव उद्वहन सिंचाई योजना से पाटन विकासखंड के तीन गांव जामगांव (आर), बोरवाय और औवरी में 818 हेक्टेयर में तथा बालोद जिले के गुण्डरदेही ब्लॉक के रनचिरई, भाठागांव और जारवाय में 720 हेक्टेयर में सिंचाई होगी। इन 6 गांवों के किसानों के लिए यह योजना संजीवनी साबित होगी।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.