नरवाई जलाने से बचें किसान : डॉ. तांबे

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

हुंडई मोटर्स – कृषक जगत की किसान संगोष्ठी

मंदसौर। गेहूं काटने के उपरांत शेष बचे अवशेषों को नरवाई (खापे) कहा जाता है। अधिकतर किसान इसको आग के हवाले कर देते हैं। दलौदा कृषि उपज मंडी परिसर में हुंडई मोटर्स इंडिया लि. एवं कृषक जगत भोपाल द्वारा आयोजित एक दिवसीय कृषक संगोष्ठी में वैज्ञानिक डॉ. एन.के.तांबे ने नरवाई से होने वाली हानियां बताई एवं इसके विकल्प रोटावेटर, स्ट्रारीपर आदि आधुनिक यंत्रों से इसका निदान बताया। किसान नरवाई के बाद हकाई करना चाहता है तो नरवाई पर 200 ग्राम यूरिया 15 लीटर पानी में मिलाकर स्प्रे करें जिससे आसानी से हकाई कर नरवाई को नष्ट किया जा सकता है। किसान नेता श्री दुर्गाशंकर शर्मा ने अपने संबोधन में कृषक जगत एवं हुंडई मोटर्स द्वारा आयोजित संगोष्ठी की सराहना की। श्री शर्मा ने निजी कंपनियों द्वारा इस प्रकार के आयोजन से किसानों को आधुनिक जानकारी एवं मार्गदर्शन मिलने की बात कही। श्री शर्मा ने कृषि मूल्य लागत आयोग एवं श्री स्वामीनाथन की रिपोर्ट पर बताया। कृषि विभाग के श्रीधर भावसार ने मिट्टी परीक्षण विभाग की योजना आदि पर विस्तार से जानकारी दी। संगोष्ठी में कृषि विभाग के श्री देवेन्द्र जैन, बाबा हुंडई मंदसौर के श्री पवन चौहान, प्रेस क्लब दलौदा के अध्यक्ष श्री सुरेश पितलिया, डॉ. अजीत जैन, श्री चांदमल पाटीदार, सुराना इंजीनियरिंग कंपनी के श्री अनिल सुराना एवं ग्रामीण क्षेत्र के लगभग 300 कृषक उपस्थित थे। संगोष्ठी के अवसर पर हुंडई के विभिन्न वाहनों का प्रदर्शन किया गया। संगोष्ठी में पधारे कृषकों ने कंपनी के विभिन्न माडलों पर उत्सुकता पूर्वक हुंडई डीलर से जानकारी एकत्र की। कार्यक्रम का संचालन कृषक जगत के जिला प्रतिनिधि श्री अनिल सुराना एवं आभार जिला समन्वयक कृषक जगत के प्रकाश दुबे द्वारा व्यक्त किया।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty − 5 =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।