रबी फसल की उत्पादकता बढाने हेतु किसानों को सलाह

Share

31 अक्टूबर 2022, उज्जैन: रबी फसल की उत्पादकता बढाने हेतु किसानों को सलाह – उज्जैन जिले के किसानों को रबी फसल की उत्पादकता बढ़ाने  हेतु कृषि विभाग द्वारा निम्नांकित सलाह दी गई है। इनका पालन कर किसान रबी फसल में अच्छी उत्पादकता प्राप्त कर सकते हैं।

बीज व्यवस्था – फसलों के अच्छे उत्पादन/उत्पादकता हेतु शुद्ध बीज का होना बहुत आवश्यक है, इस हेतु किसान भाई बीज विश्वसनीय स्थान से खरीदे साथ ही पक्का बिल  भी अवश्य लें। जिन किसानों भाईयों के पास स्वयं का बीज उपलब्ध है वो बीज साफ कर/छानकर बुआई करें।

बीज दर- अनुशंसित बीज दर का उपयोग उपयोग करें (गेहूं फसलः-100 किलोग्राम प्रति हेक्टयर, चना/मटर  फसलः-80 किलोग्राम प्रति हेक्टयर)

बीज उपचार -बीज बुआई से पूर्व फसलों का फफूंदनाशी से बीज उपचार अवश्य करें। चना फसल में उकटा रोग से बचाव हेतु कार्बोक्सिऩ थायरम के मिश्रण 3 ग्राम प्रति किलो या ट्राईकोडर्मा विरडी 5 ग्राम प्रति किलो के मान से, इसके पश्चात राईजोबियम एवं पी.एस.बी. कल्चर 5 ग्राम प्रति किलो के मान से उपयोग करें।

खाद एवं उर्वरक – मृदा स्वास्थ्य कार्ड की अनुशंसा अनुसार संतुलित एवं अनुशंसित खाद/उर्वरक का उपयोग करें।गेहूं एवं चना फसल में निम्नानुसार प्रति हेक्टेयर नत्रजन/फास्फोरस/पोटाश की आवश्यकता होती है। 5 टन गोबर की खाद अथवा 2.5 टन वर्मी कम्पोस्ट का प्रति हैक्टेयर का उपयोग करें। गेहूं फसल सिचिंत हेतु 120 किलो नत्रजन, 60 किलो फास्फोरस, 40 किलो पोटाश एवं 25 किलो जिंक सल्फेट। गेहूं फसल अर्द्धसिचिंत हेतु 90 किलो नत्रजन, 60 किलो फास्फोरस, 40 किलो पोटाश एवं 25 किलो जिंक सल्फेट। चना/मटर/मसूर फसल हेतु 20 किलो नत्रजन, 60 किलो फास्फोरस, 40 किलो पोटाश, पोषक तत्वों की सिफारिश मात्रा अनुसार प्रति हेक्टयर निम्नानुसार उर्वरकों का उपयोग किया जा सकता हैं। गेहूं फसल सिचिंत एवं अर्द्धसिचिंत हेतु प्रति हेक्टयर (बोवनी के साथ आधार खाद/उर्वरक का उपयोग अवश्य करें) एन.पी.के. (12:32:16) 200 किलोग्राम एवं 25 किलो ग्राम जिंक सल्फेट।  डी.ए.पी. 125 किलो ग्राम 75 किलो ग्राम म्यूरेट ऑफ पोटाश 25 किलो ग्राम जिंक सल्फेट। एस.एस.पी. 400 किलो ग्राम यूरिया 50 किलो ग्राम़ 50 किलो ग्राम म्यूरेट ऑफ पोटाश़ 25 किलो ग्राम जिंक सल्फेट। उपरोक्त में से कोई एक का उपयोग बुआई के समय ही आधार उर्वरक के रूप में उपयोग करें एवं यूरिया 200 किलो प्रति हैक्टेयर प्रथम एवं द्वितीय सिंचाई के समय उपयोग करें या नेनो युरिया चार मिली प्रति लीटर पानी में घोल बनकर गेहु फसल पर स्प्रे करें।

चना/मटर/मसूर फसल हेतु प्रति हेक्टयर(बोवनी के साथ आधार खाद/उर्वरक का उपयोग अवश्य करें) एन.पी.के. (12:32:16) 200 किलो। डी.ए.पी. 125 किलो 75 किलो म्यूरेट ऑफ पोटाश 25 किलो जिंक सल्फेट। एस.एस.पी. 400 किलो यूरिया 50 किलो 50 किलो म्यूरेट ऑफ पोटाश़ 25 किलो जिंक सल्फेट। उपरोक्त में से कोई एक का उपयोग बुआई के समय आधार उर्वरक के रूप में उपयोग करें। जिले में सेवा सहकारी समितियां एवं निजी विक्रेताओं के पास पर्याप्त मात्रा में उर्वरक उपलब्ध है। अधिक जानकारी के लिए आपके क्षेत्र के वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी कार्यालय या संबंधित क्षेत्रीय ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी से संपर्क करें।

महत्वपूर्ण खबर: आज का सरसों मंडी रेट (29 अक्टूबर 2022 के अनुसार)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्राम )

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *