कृषि में इंडो-इजरायली उत्कृष्टता के 75 गांव

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
(निमिष गंगराड़े, नई दिल्ली)

15 मार्च 2021, नई दिल्ली । कृषि में इंडो-इजरायली उत्कृष्टता के 75 गांव – इंडो-इजरायल सहयोग याने भारत में भारत-इजरायल कृषि परियोजना (IIAP) 2018 में शुरू की गई थी, और देश भर में स्थित इसके सेंटर ऑफ एक्सीलेंस (COE) के माध्यम से कृषि के विभिन्न क्षेत्रों में उन्नति के साथ तीन साल सफलतापूर्वक पूरे किए हैं। इस परियोजना का लक्ष्य 23 राज्यों को कवर करना है, जो पूरे भारत में 42 केंद्रों पर फसल केंद्रित और कृषि-जलवायु स्थिति पर आधारित होंगे। वर्तमान में भारत के 13 राज्यों में 29 ऑपरेशनल सेंटर ऑफ एक्सीलेंस (CEO) कार्यरत हैं। तीन नए सेंटर ऑफ एक्सीलेंस हाल ही में मध्य प्रदेश, असम और हिमाचल प्रदेश में चालू किए गए हैं।

कृषि उत्कृष्टता के ये केंद्र हर साल लगभग 1.57 लाख किसानों को जोडऩे में सफल रहे हैं। यहाँ किसानों को विभिन्न तकनीकों के प्रदर्शन के माध्यम से प्रशिक्षित किया जाता है, जिससे स्थानीय कृषक समुदाय के मूल्य में वृद्धि होती है। भारतीय किसानों को विश्वसनीय और सिद्ध समाधान दिखाने के लिए इन केंद्रों में इजरायली कृषि समाधान और सर्वोत्तम तकनीक को लागू किया जाता है।
सभी केंद्रों पर सटीक कृषि प्रौद्योगिकी के माध्यम से नजर रखी जाती है, जहां खेतों के उपग्रह के माध्यम से चित्र साप्ताहिक आधार पर लिए जाते हंै जो केंद्र को यह निर्णय लेने में मदद करता है कि फसल में कब और कितनी सिंचाई करनी है। केंद्र किसानों को विशेष प्रकार के उर्वरकों का उपयोग करने का प्रशिक्षण देता है जो ड्रिप लाइनों (फर्टिगेशन) के माध्यम से सिंचाई के लिए उपयोग किया जाता है।

कीटों और कीटों के कारण किसानों की फसल के नुकसान से बचाने के लिए, केंद्र प्रमुख सुरक्षा उपायों जैसे कि नेमोटोड और अन्य मृदा जनित बीमारी से बचाव के लिए प्रदर्शन पर काम कर रहे हैं। भारत में सफलता पूर्वक चल रहे इन केंद्रों ने इजरायल की नई सब्जियों की किस्मों को भी विकसित किया है जो किसानों के लिए नए बाजार की संभावनाएं खोलते हैं।

इंडो-इजरायल गांवों की उत्कृष्टता

इंडो-इजरायल गांवों की उत्कृष्टता भारतीय गांवों में कृषि को बढ़ावा देने और इजरायल प्रौद्योगिकी के साथ, लेकिन खेती की स्थानीय स्थितियों के अनुरूप एक पारिस्थितिकी तंत्र बनाने का एक माध्यम है।  8 राज्यों में 13 भारतीय उत्कृष्टता केंद्रों के तहत 75 भारतीय गांवों का चयन किया गया है।

गांवों का विकास

कृषि के क्षेत्र को मजबूत करने के लिए गांवों का विकास प्रत्येक गांव में तीन मुख्य क्षेत्रों को विकसित करने पर काम करेगा। इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट, क्षमता निर्माण और मार्केट लिंकेज।

बुनियादी ढांचे का विकास

बुनियादी ढांचे के विकास में सिंचाई, कृषि मशीनरी की उपलब्धता और प्रत्येक किसान के लिए औजार, अच्छी गुणवत्ता रोपण सामग्री की उपलब्धता के लिए नर्सरी विकास, कृषि आदानों की समय पर उपलब्धता का प्रबंधन करना शामिल है जिसमें बीज, फसल सुरक्षा रसायन, उर्वरक और प्रोसेसिंग भी शामिल है।

क्षमता निर्माण

indo-israel-1

क्षमता निर्माण में किसानों को यह जानने में मदद मिलती है कि उपलब्ध बुनियादी ढांचे का उपयोग और उपयोग कैसे किया जाए। कृषि में सर्वोत्तम प्रथाओं के साथ इस बुनियादी ढांचे के उपयोग से भारतीय किसानों को बेहतर गुणवत्ता वाले उत्पाद प्राप्त करने और उनकी पैदावार में सुधार करने में मदद मिलेगी।

 

बाजार लिंकेज

indo-israel-3

गाँवों में कृषि को मजबूत करने के लिए बाजार लिंकेज तीसरा मुख्य क्षेत्र होगा। एक बार जब किसान बेहतर गुणवत्ता की उपज और उच्च उपज का उत्पादन कर रहे होते हैं, तो खुदरा विक्रेताओं/ बाजारों को आवश्यकता के अनुसार मांग को पूरा करने के लिए रेखांकित जा सकता है और लक्षित किया जा सकता है। खुदरा स्टार पर और बाजारों में निवेश करने से किसानों की आय सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी।

भारत में उत्कृष्टता के ये इंडो-इजरायल गाँव भारत में इंडो-इजरायल कृषि परियोजना के माध्यम से कृषि तकनीक के उन्नयन एवं गहन उपयोग को नया आयाम देंगे और विकास का मार्ग प्रशस्त करेंगे। इन 75 गांवों के आसपास उत्कृष्टता के इंडो-इजरायल केंद्र नवीनतम तकनीक और उपलब्ध ज्ञान के साथ किसानों का सशक्तिकरण करेगा।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।