राष्ट्रीय कृषि समाचार (National Agriculture News)

भारत में दूध और टोल की कीमतों में वृद्धि: क्या हैं मुख्य कारण?

Share

04 जून 2024, भोपाल: भारत में दूध और टोल की कीमतों में वृद्धि: क्या हैं मुख्य कारण? – भारत में हाल ही में दूध और टोल की कीमतों में वृद्धि देखी गई है, जिसने जनता और अर्थव्यवस्था पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाला है। 18वीं लोकसभा चुनावों के समाप्त होने के बाद, अमूल और मदर डेयरी ने 3 जून से दूध की कीमतों में 2 रुपये की वृद्धि की घोषणा की है, जिससे फुल क्रीम दूध की कीमत 66 रुपये से बढ़कर 68 रुपये प्रति लीटर हो गई है।

मदर डेयरी ने उत्पादन लागत में वृद्धि को इसका कारण बताया है। पिछले दो वर्षों में दूध की कीमतें कई बार बढ़ाई गई हैं। 2022 में लंपी त्वचा रोग के कारण उत्पादन में स्थिरता भी एक प्रमुख कारण था। हीटवेव से भी दूध उत्पादन पर असर पड़ सकता है।

भारत की खुदरा महंगाई दर पिछले महीने 4.83 प्रतिशत थी, और खाद्य व पेय पदार्थों की बढ़ी हुई कीमतें इसका मुख्य कारण रही हैं। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने 2024-25 में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) महंगाई दर को 4.5% तक कम होने की उम्मीद जताई है। भारत दुनिया का सबसे बड़ा दूध उत्पादक है, जो वैश्विक उत्पादन में 25% का योगदान देता है और 8 करोड़ से अधिक किसानों को रोजगार प्रदान करता है।

टोल दरों  में वृद्धि

चुनाव के अगले दिन, भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) ने 1,100 टोल प्लाज़ा पर दरें 3-5% बढ़ाईं। लोकसभा चुनाव 2024 के मतदान समाप्त होने के बाद, NHAI ने टोल दरों में संशोधन किया, जो सोमवार से प्रभावी हुआ। NHAI के अनुसार, यह वार्षिक प्रक्रिया थोक मूल्य सूचकांक-आधारित मुद्रास्फीति पर आधारित होती है।

NHAI ने कहा कि टोल प्लाज़ा दरों में वृद्धि सड़क परियोजनाओं के विस्तार के लिए आवश्यक है, जबकि विपक्षी पार्टियाँ इसे आम आदमी की जेब पर बोझ डालने का आरोप लगाती हैं। दूध और टोल की कीमतों में वृद्धि से महंगाई और आर्थिक दबाव बढ़ सकता है, जिससे आम जनता प्रभावित होगी।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

Share
Advertisements