दिमागी सेहत के लिए 24X7 टोल-फ्री हेल्पलाइन ‘किरण’

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

09 सितंबर 2020, नई दिल्ली। दिमागी सेहत के लिए 24X7 टोल-फ्री हेल्पलाइन ‘किरण’ – सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय द्वारा चौबीस घंटे चालू रहने वाली टोल-फ्री मानसिक स्वास्थ्य पुनर्वास हेल्पलाइन किरण (1800-599-0019) का 13 भाषाओं में शुभारंभ किया गया। इस हेल्पलाइन का उद्देश्य विशेष रूप से कोविड-19 महामारी के मद्देनजर मानसिक रोगों की बढ़ती हुए संख्या को देखते हुए मानसिक रोग से पीड़ित लोगों को राहत और सहायता प्रदान करना है। केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री श्री थावरचंद गहलोत ने वेबकास्ट के माध्यम से हेल्पलाइन का उद्घाटन किया।

महत्वपूर्ण खबर : गुजरात के गन्ना किसानों को 25 करोड़ का ऑनलाइन भुगतान

इस हेल्पलाइन को भारत के किसी भी हिस्से से किसी भी दूरसंचार नेटवर्क के किसी भी मोबाइल या लैंड लाइन फोन से टोल फ्री नंबर 1800-599-0019 पर डॉयल करके उपयोग में लाया जा सकता है: मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ आपकी समस्या का समाधान करने या बाहरी मदद से जोड़ने या रेफ़र करने में आपकी मदद करेंगे।

टोल फ्री हेल्पलाइन बीएसएनएल के तकनीकी सहयोग से सप्ताह को सातों दिन 24 घंटे काम करेगी। इस हेल्पलाइन में 8 राष्ट्रीय संस्थानों सहित 25 संस्थान शामिल हैं। इसे 660 मनोवैज्ञानिकों और 668 मनोरोग चिकित्सकों का भी सहयोग मिलेगा। हेल्पलाइन में शामिल 13 भाषाएं हैं : हिन्दी, असमी, तमिल, मराठी, उड़िया, तेलुगु, मलयालम, गुजराती, पंजाबी, कन्नड़, बांगला, ऊर्दू एवं अंग्रेजी।

इस हेल्‍पलाइन से शीघ्र जांच सुनिश्चित करना, प्राथमिक चिकित्‍सा, मनोवैज्ञानिक मदद, भारी तनाव को नियंत्रण में करना, और मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य विशेषज्ञों से संपर्क शामिल हैं। यह हेल्पलाइन उन लोगों के लिए काफी मददगार है जो भारी मानसिक तनाव; महामारी से जुड़ी मनोवैज्ञानिक समस्‍याओं और मानसिक स्वास्थ्य संबंधी आपातकालीन स्थितियों से गुजर रहे हों।

इस हेल्‍पलाइन के लिए चेन्‍नई स्थित राष्‍ट्रीय बहु-दिव्‍यांग सशक्तिकरण संस्‍थान (एनआईईपीएमडी) और सीहोर स्थित राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य पुनर्वास संस्थान (एनआईएमएचआर) आवश्‍यक समन्‍वय कर रहे हैं। इंडियन एसोसिएशन ऑफ क्लिनिकल साइकोलॉजिस्ट (आईएसीपी), भारतीय मनोचिकित्सक संघ (आईपीए) और भारतीय मनोरोग सामाजिक कार्यकर्ता संघ (आईपीएसडब्‍ल्‍यूए) इस हेल्‍पलाइन के लिए प्रोफेशनल सहयोग उपलब्‍ध करा रहे हैं।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × four =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।