भारत सबसे बड़ा नारियल उत्पादक देश

Share
नारियल उत्पादों के व्यापार और विपणन पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन हैदराबाद में

28 फरवरी 2023, हैदराबाद: भारत सबसे बड़ा नारियल उत्पादक देश – नारियल विकास बोर्ड, (कृषि मंत्रालय,) अंतर्राष्ट्रीय नारियल समुदाय (आईसीसी) के सहयोग से, नारियल उत्पादों के व्यापार और विपणन पर दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन हैदराबाद में कर रहा है। कार्यक्रम का उद्घाटन नारियल विकास बोर्ड-सीडीबी की मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. विजयलक्ष्मी नदेंदला ने डॉ. जेफिना सी. अलौव, कार्यकारी निदेशक, अंतर्राष्ट्रीय नारियल समुदाय-आईसीसी; डॉ रघुनंदन राव, तेलंगाना सरकार के प्रधान सचिव और एपीसी; डॉ. पी. चंद्र शेखर, महानिदेशक, मैनेज; डॉ रमेश मित्तल, निदेशक, सीसीएस नियाम, जयपुर और श्री बर्नी फेरर क्रूज़, आईसीसी राष्ट्रीय संपर्क अधिकारी और प्रशासक की उपस्थिति में किया।

डॉ. विजयलक्ष्मी नडेंदला ने कहा कि आईसीसी के 2020 के आंकड़ों के अनुसार, वैश्विक उत्पादन में 30.93 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ भारत दुनिया का सबसे बड़ा नारियल उत्पादक देश है, इसके बाद इंडोनेशिया और फिलीपींस का स्थान है। भारत उत्पादकता के मामले में – वियतनाम के 10,547 नट प्रति हेक्टेयर के बाद 9,346 नट प्रति हेक्टेयर के साथ दूसरे स्थान पर है। नारियल की फसल देश के सकल घरेलू उत्पाद में लगभग 307,956 मिलियन रुपये का योगदान करती है और इसके निर्यात से लगभग 75,768.80 मिलियन रुपये का राजस्व अर्जित करती है।

दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में , दुनिया भर में 450 से अधिक प्रतिनिधि वर्चुअल माध्यम से शामिल हुए और 26 अंतर्राष्ट्रीय प्रतिनिधि वास्तविक रूप से भाग ले रहे हैं।

अंतर्राष्ट्रीय नारियल समुदाय-आईसीसी के कार्यकारी निदेशक, डॉ.जेल्फीना सी. अलौव ने नारियल में वैश्विक बाजार की संभावनाओं, नारियल क्षेत्र में नवीन उद्योग और नारियल क्षेत्र में स्थिरता पर तकनीकी जानकारी के हस्तांतरण की सुविधा के बारे में बल दिया।
अंतर्राष्ट्रीय नारियल समुदाय-आईसीसी के राष्ट्रीय संपर्क अधिकारी और प्रशासक श्री बर्नी फेरर क्रूज़ ने नारियल क्षेत्र के महत्व पर बल दिया, जिसके लिए बाजार अनुसंधान, नारियल मूल्य वर्धित उत्पादों की गुणवत्ता और डिजिटल मार्केटिंग में सफलता की आवश्यकता है।

महत्वपूर्ण खबर: गेहूँ मंडी रेट (27 फरवरी 2023 के अनुसार)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्राम )

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *