राष्ट्रीय कृषि समाचार (National Agriculture News)

कृषि में क्रांति लाने के लिए भारत का ‘कृषि सखियों’ पर दांव

Share

19 जून 2024, भोपाल: कृषि में क्रांति लाने के लिए भारत का ‘कृषि सखियों’ पर दांव – भारत के कृषि परिदृश्य को बदलने के लिए सरकार ने एक अभिनव कार्यक्रम शुरू किया है, जिसमें महिलाओं को विस्तार सेवाओं के अग्रभाग में रखा गया है। ‘कृषि सखी समन्वय कार्यक्रम’ (KSCP), कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय और ग्रामीण विकास मंत्रालय के बीच एक संयुक्त पहल है, जिसका उद्देश्य 3 करोड़ ‘लखपति दीदी’ (महिला करोड़पति) तैयार करना है, जिसमें कृषि सखी एक महत्वपूर्ण घटक हैं।

प्रधानमंत्री मोदी का बड़ा कदम

18 जून, 2024 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 30,000 से अधिक स्वयं सहायता समूह के सदस्यों को प्रमाण पत्र प्रदान करते हुए उन्हें औपचारिक रूप से ‘कृषि सखियों’ के रूप में नियुक्त किया। यह भारत के ग्रामीण महिलाओं को सशक्त बनाने और कृषि क्षेत्र में परिवर्तन लाने के प्रयासों में एक महत्वपूर्ण मोड़ है।

कृषि सखियों का प्रशिक्षण और सशक्तिकरण

कृषि सखी कार्यक्रम का उद्गम इस मान्यता में निहित है कि महिलाओं की भारत की कृषि अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका है। कृषि कार्यबल का लगभग 70% हिस्सा महिलाएं हैं, जो देश की खाद्य उत्पादन प्रणाली की रीढ़ हैं। फिर भी, तकनीकी अपनाने और उत्पादकता बढ़ाने वाली विस्तार सेवाओं में उनका उपयोग कम और अवमूल्यन हुआ है।

कृषि मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, “कृषि सखियां कृषि विस्तार कार्यकर्ताओं के रूप में आदर्श विकल्प हैं। वे स्वयं अनुभवी किसान हैं और अपने समुदायों में गहरी जड़ें जमाए हुए हैं। उनका जमीनी स्तर का समझ और संबंध उन्हें उनके साथियों द्वारा स्वागत और सम्मानित सलाहकार बनाता है।”

KSCP का उद्देश्य इस स्वाभाविक लाभ का उपयोग करके कृषि सखियों को पैरा-एक्सटेंशन कार्यकर्ताओं के रूप में व्यापक प्रशिक्षण और प्रमाणन प्रदान करना है। 56-दिन का कार्यक्रम उन्हें कई मॉड्यूल में विशेषज्ञता प्रदान करता है, जिसमें कृषि-पर्यावरणीय प्रथाएं, एकीकृत खेती प्रणाली, मृदा स्वास्थ्य प्रबंधन, पशु देखभाल और यहां तक ​​कि बुनियादी संचार कौशल शामिल हैं।

आर्थिक संभावनाएं और परिवर्तनकारी प्रभाव

गहन प्रशिक्षण और दक्षता परीक्षण के बाद, प्रमाणित कृषि सखियों को विभिन्न केंद्रीय योजनाओं के तहत किसानों को सेवाएं प्रदान करने का अधिकार होगा। उनके कार्यों में मृदा नमूना संग्रह, किसान क्षेत्र स्कूलों का संगठन, बीज बैंकों की स्थापना, एकीकृत खेती प्रणाली को बढ़ावा देना और यहां तक ​​कि ऋण और फसल बीमा संलग्नता की सुविधा शामिल है।

ग्रामीण विकास मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा, “कृषि सखियों को इन गतिविधियों के माध्यम से मिलने वाली संसाधन फीस काफी महत्वपूर्ण है। औसतन, वे प्रति वर्ष ₹60,000 से ₹80,000 तक कमा सकती हैं, जो ग्रामीण महिलाओं के लिए जीवन बदलने वाला अवसर है।”

आत्मनिर्भर कृषि की ओर एक साहसिक कदम

एक सफल कहानी राजस्थान के बारां जिले की 35 वर्षीय मीना की है। मीना ने कहा, “मुझे हमेशा खेती का शौक था, लेकिन अपनी पैदावार को बढ़ाने के लिए तकनीकी जानकारी नहीं थी। कृषि सखी प्रशिक्षण मेरे लिए एक गेम-चेंजर साबित हुआ है। अब मेरे पास न केवल अपनी फसल को बेहतर बनाने के लिए कौशल और आत्मविश्वास है, बल्कि अपने गांव के अन्य किसानों को स्थायी कृषि प्रथाओं पर मार्गदर्शन करने के लिए भी।”

मीना वर्तमान में मृदा स्वास्थ्य कार्ड कार्यक्रम, राष्ट्रीय तिलहन और पाम मिशन और कृषि यंत्रीकरण उप-मिशन जैसी योजनाओं के तहत सेवाएं प्रदान करके प्रति वर्ष लगभग ₹70,000 कमा रही हैं। उन्होंने कहा, “इस आय ने मुझे आर्थिक रूप से स्वतंत्र बना दिया है और मुझे अपने परिवार के कल्याण में निवेश करने की अनुमति दी है। मुझे कृषि सखी होने पर गर्व है और मैं अन्य महिलाओं को भी इस रास्ते पर चलने के लिए प्रेरित करना चाहती हूं।”

कृषि सखी कार्यक्रम का प्रभाव व्यक्तिगत सशक्तिकरण से परे है। यह भारत के कृषि क्षेत्र में एक व्यापक परिवर्तन को उत्प्रेरित करने की क्षमता रखता है, जो लंबे समय से स्थिर उत्पादकता, संसाधनों की कमी और किसान संकट जैसी चुनौतियों का सामना कर रहा है।

कार्यक्रम का प्राकृतिक खेती और मृदा स्वास्थ्य प्रबंधन पर जोर विशेष रूप से महत्वपूर्ण है, क्योंकि भारत एक जलवायु-स्थायी खाद्य प्रणाली बनाने का प्रयास कर रहा है। कृषि सखियां पुनर्योजी कृषि प्रथाओं को बढ़ावा देने में सबसे आगे होंगी, जो भूमि को पुनर्जीवित करती हैं और हमारे खाद्य भविष्य को सुरक्षित करती हैं।

इसके अलावा, यह पहल ‘आत्मनिर्भर कृषि’ (आत्मनिर्भर खेती) के सरकार के व्यापक दृष्टिकोण के साथ मेल खाती है, जिसका उद्देश्य किसानों को सशक्त बनाना और बाहरी इनपुट पर निर्भरता कम करना है। एकीकृत खेती, बीज संप्रभुता और मूल्य संवर्धन में कौशल के साथ कृषि सखियों को सशक्त बनाकर, कार्यक्रम का उद्देश्य जमीनी स्तर पर आत्मनिर्भरता और उद्यमशीलता को बढ़ावा देना है।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

ई-पेपर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:
www.krishakjagat.org/kj_epaper/

अंग्रेजी वेबसाइट पर जाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:
www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements