आई.आई.एल. फाउंडेशन ने कृषकों को जागरूक करने सरदार पटेल कृषि विश्वविद्यालय, मेरठ के साथ एमओयू किया

Share

22 फरवरी 2022, दिल्ली । आई.आई.एल. फाउंडेशन ने कृषकों को जागरूक करने सरदार पटेल कृषि विश्वविद्यालय, मेरठ के साथ एमओयू किया प्रमुख क्रॉप प्रोटेक्शन और न्यूट्रीशन कंपनी इन्सेक्टीसाइड्स (इंडिया) लिमिटेड की सीएसआर विंग ‘आई.आई.एल. फाउंडेशन’ ने किसानों को जागरूक करने के लिए उत्तरप्रदेश के मेरठ में स्थित सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर किए हैं जिससे विश्वविद्यालय के अधीन संचालित जनपद हापुड के कृषि विज्ञान केन्द्र के माध्यम से अगले तीन साल के लिए आगामी कृषि विस्तार गतिविधियों और किसानो में जागरूकता को बढ़ावा दिया जा सके। विश्वविद्यालय परिसर में आयोजित कार्यक्रम में कुलपति, डॉ. आर.के. मित्तल एवं आई.आई.एल. फाउंडेशन की ओर से श्री संदीप अग्रवाल ने एमओयू पर हस्ताक्षर किए।

इस मौके पर डॉ मित्तल ने कहा, ‘किसानों के हित के लिए मिलकर काम करना हमेशा अच्छा होता है। हम इन्सेक्टिसाइड्स (इंडिया) लिमिटेड (IIL) के साथ इस संबंध की शुरुआत को लेकर बहुत खुश और आशान्वित हैं। किसान आज नई-नई चीजें सीखने को तैयार हैं, हम इस प्रोजेक्ट के तहत किसानों के साथ मिलकर काम कर सकते हैं। हमें विश्वास है कि आई.आई.एल. फाउंडेशन और वैज्ञानिकों तथा विशेषज्ञों की हमारी टीम निश्चित रूप से किसानों के लिए बदलाव लाएगी।’

कम्पनी के सीएफओ और आईआईएल फाउंडेशन के ट्रस्टी श्री संदीप अग्रवाल श्री संदीप अग्रवाल ने आई.आई.एल. फाउंडेशन की ओर से अपने विचार साझा करते हुए कहा कि हम फाउंडेशन की स्थापना के समय से ही किसानों की शिक्षा और जागरूकता के लिए काम कर रहे हैं। फाउंडेशन के प्रमुख उद्देश्यों में से एक के रूप में किसानों को एग्रो केमिकल का सही ढंग से इस्तेमाल करना सिखाना, हमारी नैतिक जिम्मेदारी है।

कार्यक्रम में निदेशक शोध, कुलसचिव सभी महाविद्यालयों के अधिष्ठातागण एवं कृषि विज्ञान केन्द्रों के प्रभारी अधिकारी एवं IIL के  के वाईस प्रेसिडेंट के श्री एम.के. सिंघल, सीनियर जनरल मैनेजर श्री संजय सिंह और डॉ. चरण सिंह, प्रोजेक्ट इंचार्ज, आई.आई.एल. फाउंडेशन टीम के अन्य सदस्यों के बीच उपस्थित थे।

महत्वपूर्ण खबर:  स्ट्राबेरी, पपीते की मिठास से 1 एकड़ से 8 लाख कमाते हैं सौदान सिंह

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.