आईसीएआर के नए महानिदेशक डॉ. हिमांशु पाठक होंगे

Share

29 जुलाई 2022, नईदिल्ली: आईसीएआर के नए महानिदेशक डॉ. हिमांशु पाठक होंगे – भारत सरकार की केबिनेट अपाइंटमेंट्स कमेटी ने इंडियन काउंसिल ऑफ एग्रीकल्चर (आईसीएआर) के नए महानिदेशक के पद के लिए डॉ. हिमांशु पाठक के नाम पर मुहर लगा दी। डॉ. पाठक वर्तमान में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एबॉयोटिक स्ट्रेस मैनेजमेंट, बारामती में पदस्थ हैं।

जीवनी

जलवायु परिवर्तन, मृदा विज्ञान शोध में विशेष रूचि रखने वाले डॉ, हिमांशु पाठक आईसीएआर-राष्ट्रीय अजैविक तनाव प्रबंधन संस्थान (एनआईएएसएम), बारामती, भारत के निदेशक के रूप में कार्यरत हैं। इससे पहले वे निदेशक, भाकृअनुप-एनआरआरआई, कटक, भारत थे। उन्होंने एक वैज्ञानिक, 1992-01 और वरिष्ठ वैज्ञानिक, 2001-06, भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, नई दिल्ली के रूप में काम किया; इंडो-गंगेटिक  मैदानों के लिए चावल-गेहूं कंसोर्टियम  (आरडब्ल्यूसी), अंतर्राष्ट्रीय चावल अनुसंधान संस्थान (आईआरआरआई)-भारत, नई दिल्ली 2006-09; प्रधान वैज्ञानिक, भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, नई दिल्ली 2009-16; प्रोफेसर, पर्यावरण विज्ञान अनुशासन, भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, नई दिल्ली, 2013-16। उन्होंने भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, नई दिल्ली, भारत (1992), एसेक्स विश्वविद्यालय, यूनाइटेड किंगडम (1996-97) में पोस्ट-डॉक्टरेट और मौसम विज्ञान और जलवायु अनुसंधान संस्थान, जर्मनी से मृदा विज्ञान और कृषि रसायन विज्ञान में पीएचडी पूरी की। 2004-05)।

आईसीएआर के नए महानिदेशक डॉ. हिमांशु पाठक होंगे

पुरस्कार / सम्मान:

डॉ. पाठक को विभिन्न अकादमियों की फैलोशिप सम्मान स्वरुप मिली है, जिसमें प्रमुख हैं :-

राष्ट्रीय कृषि विज्ञान अकादमी (एनएएएस), भारत (2007)।

पश्चिम बंगाल विज्ञान और प्रौद्योगिकी अकादमी, भारत (2013)।

भारतीय राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी (आईएनएसए), भारत (2014)।

राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी, भारत (NASI) (2016)।

भारतीय जलवायु कांग्रेस, भुवनेश्वर, ओडिशा (2018)।

इसी के साथ अनेक अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार से भी आप नवाजे गए हैं

जर्मनी के अलेक्जेंडर वॉन हम्बोल्ट फैलोशिप (2004)।

आउटस्टैंडिंग एडमिनिस्ट्रेटिव सपोर्ट अवार्ड , आईआरआरआई, फिलीपींस (2007)।

डॉ पाठक अनेक प्रोफेशनल  समितियों के अध्यक्ष भी रहे हैं जिसमें एसोसिएशन ऑफ राइस रिसर्च वर्कर्स, कटक, ओडिशा (2018), सोसाइटी फॉर कंजर्वेशन ऑफ नेचर, नई दिल्ली (2016), ISCA (2007) प्रमुख हैं ।

महत्वपूर्ण खबर: सिंचाई उपकरण हेतु 27 जुलाई से 4 अगस्त तक आवेदन पत्र आमंत्रित

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.