किसान सारथी, ई-नाम, एम4एग्री जैसे डिजिटल समाधान

Share
कृषि इको-सिस्टम में क्रांतिकारी बदलाव लायेंगे

9 जुलाई 2022, नई दिल्ली: डिजिटल भारत सप्ताह समारोह के अंग के रूप में “इंडिया स्टैक नॉलेज एक्सचेंज” (भारत जान विपुलता आदान-प्रदान) का सात जुलाई से नौ जुलाई, 2022 तक आयोजन किया गया । इस तीन दिवसीय विशेष आयोजन में एक सत्र कृषि पर केन्द्रित था । इस सत्र में ‘कृषि विपुलता’ पर भी चर्चा हुई ।

कृषि विपलुता

सी4आईआर इंडिया, विश्व आर्थिक मंच के मुख्य सलाहकार श्री जे. सत्यनारायणन ने “आईडिया-इंडिया डिजिटल इको-सिस्टम फॉर एग्रीकल्चर” विषय पर प्रमुख वक्तव्य दिया। उन्होंने भारत में कृषि क्षेत्र द्वारा सामना की जाने वाली चुनौतियों तथा आइडिया के मूल्याधारित समाधानों के विषय में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि आइडिया के साथ “प्रणालीगत सोच” से “इको-प्रणालीगत सोच” की तरफ बढ़ने की जरूरत है। कृषि विपुलता सत्र का संचालन एनआईसी की वरिष्ठ डीडीजी डॉ. रंजना नागपाल ने किया। पैनल में कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के प्रमुख ज्ञान अधिकारी व सलाहकार श्री राजीव चावला, इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के एनई-जीडी के मुख्य परिचालन अधिकारी डॉ. विनय ठाकुर तथा कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के निदेशक डॉ. कपिल अशोक बेंद्रे जैसे दिग्गज शामिल थे। पेनल ने किसान डेटाबेस, किसान पहचान पत्र, किसान केंद्रित प्रणालियों तथा डेटाबेसों के एकीकरण की जरूरत पर चर्चा की। वास्तविक किसानों की पहचान करने और उन तक सेवायें पहुंचाने की चुनौतियों का भी जायजा लिया गया। इन विषयों पर गहन विचार-विमर्श हुआ तथा एफआरयूआईटीएस-फ्रूट्स (फार्मर रजिस्ट्रेशन एंड यूनीफाइड बेनीफिशयरी इंफर्मेशन सिस्टम) के जरिये समाधान पर जोर दिया गया।

मृदा स्वास्थ्य कार्ड की उपादेयता, पूरे भारत में उसके विस्तार, सफलता की कहानियों और संभावित सक्षम मामलों पर चर्चा की गई। इलेक्ट्रॉनिक नेशनल एग्रीकल्चर मार्केट (ई-नाम), 25 राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में 1260 कृषि बाजारों तक उसके विस्तार के बारे में बताया गया। एम4एग्री और किसान सारथी जैसे मोबाइल एप्प तथा छह उत्तर-पूर्व राज्यों में उसके परिचालन की स्थिति पर भी बात की गई। पेनल ने अंत में कृषि-सम्बंधी प्रणालियों के एकीकरण का उल्लेख करते हुय कहा कि आइडिया के तहत आगे बढ़ने के लिये ये प्रणालियां जरूरी हैं।

सत्रों की रिकॉर्डिंग https://www.youtube.com/DigitalIndiaofficial पर देखी जा सकती है।

महत्वपूर्ण खबर: घनजीवामृत (सूखी खाद) बनाने की विधि

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.