एमएसपी पर बनी समिति ने चार उप-समूहों का गठन किया

Share

23 अगस्त 2022, नई दिल्ली: एमएसपी पर बनी समिति ने चार उप-समूहों का गठन किया – .न्यूनतम समर्थन मूल्य [ एमएसपी  ] की समिति ने गत  सोमवार को अपनी पहली बैठक में  एमएसपी  को अधिक प्रभावी और पारदर्शी’  बनाने सहित अन्य अनिवार्य विषयों के लिए चार उप-समूह बनाए हैं। इस बैठक के दौरान संयुक्त किसान मोर्चा [  एसकेएमके ] प्रतिनिधि अनुपस्थित रहे।

पूर्व कृषि सचिव श्री  संजय अग्रवाल की अध्यक्षता वाली समिति ने अपनी पहली बैठक के दौरान शून्य बजट आधारित खेती को बढ़ावा देने, देश की बदलती जरूरतों को ध्यान में रखते हुए फसल पैटर्न को बदलने और एमएसपी को और अधिक प्रभावी व पारदर्शी बनाने के तरीकों पर चर्चा की। गौरतलब है कि एमएसपी समिति में अध्यक्ष सहित 26 सदस्य हैं, जबकि एसकेएम के प्रतिनिधियों के लिए तीन सीटें खाली रखी गईं हैं।

समिति के सदस्य श्री   बिनोद आनंद ने पीटीआई से बातचीत में कहा है कि एक दिन के विचार-विमर्श के बाद समिति ने तीन अनिवार्य विषयों पर चार उप-समूह या समितियां बनाने का निर्णय लिया है।

महत्वपूर्ण खबर: बुरहानपुर में दुकानदार का उर्वरक प्राधिकार पत्र निलंबित

किसान समूह सीएनआरआई में महासचिव का प्रभार संभाल रहे  श्री  आनंद ने कहा कि पहला समूह हिमालयी राज्यों के साथ-साथ वहां फसल पैटर्न और फसल विविधीकरण का अध्ययन करने के साथ-साथ इन राज्यों में एमएसपी समर्थन कैसे सुनिश्चित किया जाए इस पर मंथन करेगा।

दूसरा समूह माइक्रो इरिगेशन पर अध्ययन के लिए बनाया गया है। आईआईएम अहमदाबाद के श्री   सुखपाल सिंह की अध्यक्षता में बनाई गई यह कमेटी सूक्ष्म सिंचाई को किसान केंद्रित बनाने पर अध्ययन करेगी। उन्होंने बताया कि वर्तमान में सूक्ष्म सिंचाई सरकारी सब्सिडी से संचालित होती हैँ  यह समूह बात पर भी चिंतन करेगा कि इसके लिए किसानों के बीच मांग कैसे पैदा की जाए ? तीसरा समूह जीरो बजट आधारित फार्मिंग जबकि चौथा समूह ड्राईलैंड एग्रीकल्चर पर अध्ययन के लिए बनाया गया है।

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़ ,  टेलीग्राम )

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.