राष्ट्रीय कृषि समाचार (National Agriculture News)

किसानों की आय बढ़ाने के लिए केंद्र सरकार का बड़ा कदम: स्वचालित ब्याज अनुदान पोर्टल और ‘कृषि कथा’ ब्लॉगसाइट लॉन्च

Share

29 जून 2024, नई दिल्ली: किसानों की आय बढ़ाने के लिए केंद्र सरकार का बड़ा कदम: स्वचालित ब्याज अनुदान पोर्टल और ‘कृषि कथा’ ब्लॉगसाइट लॉन्च – केंद्रीय कृषि मंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कृषि अवसंरचना के अंतर्गत ब्याज सब्सिडी दावों के त्वरित बैंक निपटान के लिए एक वेब पोर्टल तथा किसानों की कहानियों को प्रदर्शित करने वाली एक ब्लॉग साइट ‘कृषि कथा’ की शुरुआत की।

श्री चौहान ने बताया कि यह वेब पोर्टल बैंकों द्वारा प्रस्तुत ब्याज सब्सिडी दावों के निपटान की प्रक्रिया को स्वचालित और तेज बनाएगा। जहां पहले इन दावों के निपटान में महीनों लग जाते थे, अब इसे एक दिन के भीतर निपटाया जा सकेगा। इस कदम से न केवल पारदर्शिता बढ़ेगी, बल्कि भ्रष्टाचार पर भी रोक लगेगी।

उन्होंने कहा, “मोदी सरकार किसानों की आय बढ़ाने के लिए विभिन्न उपाय कर रही है। कृषि अवसंरचना कोष के तहत अब तक 67,871 परियोजनाओं के लिए ₹43,000 करोड़ स्वीकृत किए जा चुके हैं और ₹72,000 करोड़ का निवेश जुटाया गया है।”

नए लॉन्च किए गए वेब पोर्टल पर स्वचालित ऋण दावा प्रणाली से मैन्युअल प्रसंस्करण में संभावित त्रुटियों से बचा जा सकेगा और दावों का तेजी से निपटान हो सकेगा। इस पोर्टल का उपयोग बैंकों, कृषि एवं किसान कल्याण विभाग (डीएएंडएफडब्लू), केंद्रीय परियोजना प्रबंधन इकाई (सीपीएमयू) और नाबार्ड द्वारा किया जाएगा।

कृषि अवसंरचना कोष: 2020 में शुरू की गई महत्वपूर्ण योजना

कृषि अवसंरचना निधि योजना 2020 में शुरू की गई थी, जिसका उद्देश्य फसल कटाई के बाद प्रबंधन अवसंरचना के विकास के लिए निवेश आकर्षित करना है। इस योजना के तहत 2025-26 तक बैंकों और वित्तीय संस्थानों के माध्यम से कुल ₹1 लाख करोड़ की राशि उपलब्ध कराई गई है, जिसमें बैंकों द्वारा दिए जाने वाले ₹2 करोड़ तक के ऋण पर 3% ब्याज सब्सिडी और क्रेडिट गारंटी शुल्क की प्रतिपूर्ति का प्रावधान है।

कृषि कथा‘ ब्लॉगसाइट: किसानों की आवाज़ और सफलता की कहानियाँ

श्री चौहान ने ‘कृषि कथा’ ब्लॉगसाइट का भी उद्घाटन किया, जो भारतीय किसानों की आवाज को बुलंद करने और उनकी सफलता की कहानियों को साझा करने के लिए एक मंच प्रदान करेगी। उन्होंने कहा कि भारतीय कृषि के विशाल और विविध परिदृश्य में किसानों की आवाज़ें और कहानियां अक्सर अनकही रह जाती हैं। ‘कृषि कथा’ का उद्देश्य इन कहानियों को साझा और मनाना है।

इस मंच के जरिए किसान अपने अनुभव, चुनौतियां और सफलताएं साझा करेंगे, जिससे अन्य किसानों को प्रेरणा मिलेगी। यह मंच जागरूकता बढ़ाने, ज्ञान के आदान-प्रदान को सुविधाजनक बनाने और सहयोग को बढ़ावा देने में सहायक होगा।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

कृषक जगत ई-पेपर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.krishakjagat.org/kj_epaper/

कृषक जगत की अंग्रेजी वेबसाइट पर जाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements