ड्रोन टेक्नालॉजी से जिंदगी होगी आसान, कृषि क्षेत्र में भी होगा उपयोग : श्री सिंधिया

Share

25  अगस्त 2021, इंदौर । ड्रोन टेक्नालॉजी से जिंदगी होगी आसान, कृषि क्षेत्र में भी होगा उपयोग : श्री सिंधिया – केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया जन आशीर्वाद यात्रा के तहत गत दिनों इंदौर आए। इस दौरान आयोजित प्रेस वार्ता में उन्होंने कई सवालों के जवाब दिए। कृषक जगत के ड्रोन से संबंधित सवाल पर श्री सिंधिया ने विस्तार से जवाब देते हुए कहा कि आने वाले दशक में ड्रोन टेक्नोलॉजी हम सबकी जि़ंदगी में कई सुविधाएं लाने की क्षमता रखती है। इसके लिए नियम बना दिए गए हैं। ड्रोन के लिए भी फ्लाइट मार्ग निर्धारित किए जाएंगे।

श्री सिंधिया ने अपने जवाब में कहा कि ड्रोन टेक्नोलॉजी प्रधानमंत्री के दिल के साथ जुड़ा मुद्दा है। जिस तरह से सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) ने पूरे विश्व की कार्य प्रणाली को बदल कर रख दिया, वैसे आने वाले दशक में ड्रोन टेक्नोलॉजी हमारी-आपकी जि़ंदगी में सहूलियत लाने की क्षमता रखती है। ड्रोन टेक्नोलॉजी के लिए नियम बना दिए हैं और उन्हें अधिसूचित भी कर दिया गया है। रक्षा मंत्रालय और गृह मंत्रालय के साथ मिलकर तय किया है कि देश के हवाई अड्डों के आसपास या अन्य क्षेत्रों के आसपास 200/400 मीटर तक ऊंचाई पर कौनसा क्षेत्र लाल, पीला या हरा रंग का होगा। मिसाल के तौर पर जिस तरह आज उड़ान/हवाई सफर के लिए एटीसी से अनुमति लेनी पड़ती है, वैसे ही पूरे देश में ड्रोन के लिए भी लायसेंस और अनुमति लेनी पड़ेगी जो सॉफ्टवेयर के माध्यम से सरलता से मिल जाएगी। जैसे ही ड्रोन का पंजीयन होगा, उसी पोर्टल पर आप अपना फ्लाइट मार्ग निर्धारित करेंगे तो वहां से आपको ग्रीन सिग्नल मिल जाएगा और आप निर्धारित मार्ग पर अपना ड्रोन चला पाएंगे।

श्री सिंधिया ने कृषि में ड्रोन के उपयोग पर कहा कि ड्रोन से मैपिंग की शुरुआत हो चुकी है, हमारी कोशिश है कि देश के प्रत्येक किसान की ज़मीन का ड्रोन के आधार पर रेखांकन हो और वह अपनी ज़मीन से जुड़े दस्तावेजों के आधार पर उसके हाथ में अधिकार पत्र हो और वह एक कदम आगे बढक़र अपनी जमीन के विरुद्ध ऋण भी ले सके, जो पहले सम्भव नहीं था। अपनी ज़मीन का अधिकार पत्र किसानों को ड्रोन टेक्नोलॉजी के द्वारा देना हम लोगों के लिए एक अहम लक्ष्य है।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.