वर्मीवाश फसल पोषण हेतु वरदान

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

वर्मीवाश फसल पोषण हेतु वरदान – वर्मीवाश केचुओं स्त्रावण से प्राप्त एक तरल पदार्थ है जो केचुआ खाद बनाते समय वर्मी कोंपोस्टिंग इकाई के जल निकास माध्यम से प्राप्त होता है जिसका उपयोग तरल जैव उर्वरक, जैव कीटनाशक एवं अन्य रूप में किया जाता है। खाद अनुकूल पर्यावरणीय कृषि में सहायक जैव मृदा सुधार में परिवर्तित होने वाले स्वाभाविक तरीके से सहनशील ठोस कचरे के लिए व्यावहार्य साधनों में से एक हैं समृद्ध खाद तैयार करने में केंचुओं के शामिल होने की प्रक्रिया को वर्मी कम्पोस्टिंग कहा जाता है। केंचुए शारीरिक रुप से नलवाहक, कोल्हू और मिक्सर के रुप में कार्य करते हैं, रसायनिक रूप से अपघर्षक और जैविक रूप से अपघटन की प्रक्रिया में एक उत्तेजक पदार्थ होते हैं।

वर्तमान में जैविक खेती प्रणालियों में वर्मीवाश नामक उत्पाद को बढ़ावा देने के लिए वाणिज्यिक वर्मीवाश बनाने के लिए आगे आ गया है। इस तरह के उत्पाद में निश्चित रूप से कुछ एंजाइमों, कार्बनिक अम्लों, वृद्धि हामोंन्स और केंचुए के बलगम पानी में घुलनशील रूप में होते हैं। यह एक निहित संपत्ति के अधिकारी हैं, जों न केवल एक तरल जैव उर्वरक के रूप में बल्कि एक हल्के जैव उर्वरक के रूप में भी कार्य करता है। वर्मीवाश, वर्मीकल्चर और वर्मीकम्पोस्टिंग उद्योग के अप्रत्यक्ष भागों में से एक है जिसमें केंचुओं के स्त्राव और धोवन का संयोजन होता है। यह जल निकासी के रूप में वर्मीकल्चर या वर्मी कम्पोस्ट की उद्योगों से प्राप्त एक जैव उर्वरक है।

केचुआ खाद के टाँका के तल पर लगे नल के अलावा वर्मीवाश इकट्ठा करने के लिए कोई विशेष उपकरण की आवश्यकता नहीं होती है। यहाँ तक की सामान्य प्रबंधन के दौरान भी नियमित रूप से छिड़काव किया जाता है ताकि नमी बनी रही और अधिक पानी जिसमें आवश्यक पोषक तत्व उसे नाली के माध्यम से निकाल दिया जाता है। केंचुओं द्वारा निर्मित वर्मीवाश की गुणवत्ता उपयोग किए जाने वाले वर्मीकम्पोस्ट पर जीवित और मृत केंचुए, मिट्टी के सूक्ष्मजीव और विघटित कार्बनिक पदार्थ, सभी भंग पदार्थों को धोते है। चूंकि पानी कुछ वर्मीकास्ट को घोल लेता है जिसमें आवश्यक पोषक तत्व मौजूद होते हैं वर्मीवाश में जाकर मिल जाते हैं। वर्मीवाश तैयार करने का मूल सिद्धांत बहुत सरल है।

मिट्टी में रहने वाले केंचुए अपने लिए बिल बनाते हैं जिसे ड्रिलोस्फीयर के नाम से जाना जाता है। पानी जो बिल से गुजरता है उसमें आवश्यक पोषक तत्व होते हैं जो पेड़ों की जड़ों द्वारा सोख लिए जाते हैं। यह सिद्धांत वर्मीवाश बनाने के समय उपयोग किया जाता है किसी भी पौधे पर छिड़काव करने से पहले वर्मीवाश में पानी मिला कर इसे पतला करें और मिट्टी से होने वाली बीमारियों से बचाव के लिए इसे मिट्टी में घोलें। रोपाई से पहले अंकुर को पहले पानी में (पाँच गुणा) डूबाया जाता है और फिर वर्मीवाश घोल में करीब आधे घंटे तक डूबा कर छोड़ दें। वर्मीवाश को गौमूत्र के साथ मिलाएँ और फिर इसमें पानी मिलाकर पतला करें और फिर इसे एक कीटनाशक के रूप में पत्तों पर छिड़काव करें या फिर इसमें दस प्रतिशत गौमू़त्र मिलाकर इसे पतला करें ओर नीम का या लहसुन का अर्क मिलाकर इसे एक जैविक कीटनाशक के रूप मे उपयोग करें।

इसे खाद के गड्ढे मे खाद को जल्दी सड़ाने के लिए डाला जाता है। विभिन्न घुलनशील पौधों के पोषक तत्व जैसे हृ, क्क, ्य, ष्टड्ड और सूक्ष्म पोषक तत्व वर्मीवाश मे मौजूद मुख्य पोषक तत्व हैं। विभिन्न प्रकार क हार्मोन्स जैसे की साइटोनिन, आँक्सिन, अमीनो अम्ल विटामिन, एंजाइम, प्रोटीएज, एमाइलेज, यूरिऐज और फॉस्फेटेज, कुछ अन्य स्त्राव और कई उपयोगी सूक्ष्मजीव जैसे की हेटरोट्रैफिक कवक, एक्टिनोमाइसिटिज, जीवाणु, नाइट्रोजन स्थिरीकारक जीवाणु जैसे की राइजोबिअस, एगरोबैक्ट्रियम, एजोटोबैक्ट्रर, फॉस्फेट, जैविक कृषि प्रणाली में मौजूद कंेचुओं के श्लेष्म को घुलनशील बनाता है। वर्मीवाश में पौधों के लिए पोषक तत्व और अमिनों एसिड उपलब्ध होता है। वर्मीवाश का रासायनिक संगठन अग्रलिखित सारणी में दर्शाया गया है।

वर्मीवाश एक गैर विषैले और पर्यावरण के अनुकूल यौगिक भी है जो जीवाणु के विकास को रोकता है और उनके अस्तित्व और विकास के लिए एक सुरक्षात्मक परत बनाता है। 5-10 प्रतिशत गीला करने पर वर्मीवाश माइसेलियल विकास को रोकता है। यह फल और उत्पादकताक को बचाकर वहाँ कीड़ा मारने की क्षमता भी रखता है। पत्तों पर छिड़काव करने से फूल और लंबे समय तक चलने वाले पुष्पक्रम भी देखी गई है। यह पौधों की जड़ों में एक तरल उर्वरक के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

इस तरल पदार्थ में कोई भ्ी रोगजनक जीवित नहीं रह सकता है इसलिए केचुओं को रोगजनकों से होने वाली बीमारियों से बचाया जा सकता है। यह एक पौधों की टॉनिक के रूप में कार्य करता है और इस प्रकार कई रोगजनक कवक को कम करने में मदद करता है। यह पौधों में प्रकाश संश्लेषण की दर को बढ़ाता है। यह मिट्टी में कार्बनिक पदार्थों को विघटित करने में मदद करता है। विभिन्न स्थानों किये गये शोध में वर्मीवाश का विभिन्न तरिके से फसलों पर उपयोग किया गया है जिसकी कुछ सारणी अग्रलिखित है।
सार: उपरोक्त शोध में लिये गये उपचारों में वर्मीवाश$ पानी के विभिन्न अनुपातों में जब वर्मीवाश$ पानी को 50:50 के अनुपात में मिलाकर मिर्च के फसल पर छिड़काव किया गया तो मिर्च की पत्तियों, पौधे की उंचाई, फलों की संख्या, फूलों की संख्या और फलों के भार में अच्छी वृद्धि देखी गई।

निष्कर्ष: वर्मीकल्चर/वर्मीकम्पोस्टिंग की एक अंतर्निहित संपति वर्मीवाश है जो न केवल एक तरल जैविक उर्वरक के रूप में बल्कि एक हल्के जैव उर्वरक के रूप में भी काम करता है। यह एक तरल उर्वरक प्राकृतिक जैव कीटनाशक, उत्कृष्ठ विकास को बढ़ावा देने वाला केचुए से प्राप्त होने वाला पदार्थ है। इसे पर्यावरण और मानव स्वास्थ्य को देखते हुए स्थायी फसल उत्पादन के लिए मृदा स्वास्थ्य और जैविक कृषि में प्रभावी रूप से उपयोग किया जाता है।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 × three =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।