बेंगलुरु के श्रीनिवास गधे के दूध से कमा रहे 5 हज़ार रुपये प्रति लीटर

Share

29 जून 2022, बेंगलुरु । बेंगलुरु के श्रीनिवास गधे के दूध से कमा रहे 5 हज़ार रुपये प्रति लीटर कृषि उद्योग एक ऐसा क्षेत्र है जहां घर बैठे काम नहीं किया जा सकता। इसके लिए हर रोज मानसिक और शारीरिक प्रयास, के साथ निरंतर सतर्कता और निगरानी की आवश्यकता होती है। एक छोटी सी गलती पूरे मौसम के प्रयास को नष्ट कर सकती है।

ऐसा बहुत कम होता है कि हम आईटी (IT) उद्योग के लोगों को महानगरों और शहरों से अपनी ऊँची आमदनी वाली नौकरी छोड़कर कृषि में काम करने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों की ओर जाते देखते है।

 बेंगलुरु के श्रीनिवास गौड़ा ने कभी कृषि उद्योग में काम करने के बारे में नहीं सोचा था। उन्होंने कला संकाय में स्नातक की उपाधि प्राप्त की और पिछले 18 वर्षों से आईटी (IT) कंपनियों के साथ काम कर रहे थे। हाल के वर्षों में उन्होंने अधिक भीड़भाड़ वाले और प्रदूषित शहर के जीवन को छोड़ने की आवश्यकता महसूस की।

व्यावसायिक विचारों की तलाश में कुछ लोगों ने उन्हें सुझाव दिया कि पशुपालन अच्छी कमाई करने के लिए एक आकर्षक क्षेत्र है। उन्होंने पशुपालन उद्योग के कई विशेषज्ञों से संपर्क किया जिन्होंने उन्हें गधा पालन करने का सुझाव दिया।

उनके परिवार और दोस्तों ने जब यह जानकर कि श्रीनिवास गधा पालन का काम करने की योजना बना रहे हैं तो उन सभी ने इस विचार का विरोध किया और उनसे कई सवाल पूछे। अपनी कॉर्पोरेट नौकरी छोड़ने के लिए अड़े श्रीनिवास ने छलांग लगाई और न्यूनतम निवेश के साथ दो साल के अच्छे शोध के बाद गधा पालन का काम शुरू किया।

गधे के दूध में अत्यधिक पोषण और औषधीय महत्व होता है। कुछ अध्ययन यह भी कहते हैं कि यह पोषण के मामले में मानव दूध के करीब है। यह रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है और 19वीं शताब्दी में अनाथ बच्चों को पिलाने के लिए पहली बार इसका इस्तेमाल किया गया था। कॉस्मेटिक उत्पाद बनाने के लिए दूध कॉस्मेटिक उद्योग में भी लोकप्रिय है।

 श्रीनिवास के गधा पालन के फार्म की स्थापना जून 2022 की शुरुआत में पूरी हो गई थी। उनके खेत के गधों (मादा) ने दूध का उत्पादन शुरू कर दिया है जिसे श्रीनिवास 5000 रुपये प्रति लीटर के हिसाब से बेचते हैं। गाय के दूध की तुलना में गधे का दूध महंगा होने का कारण यह है कि एक गाय एक दिन में कम से कम 5 – 8 लीटर दूध का उत्पादन कर सकती है, जबकि एक गधा (मादा) 24 घंटे में केवल 250-300 मिलीलीटर दूध का उत्पादन करता है। उच्च पोषण और औषधीय मूल्य और कम उत्पादन गधे के दूध को अधिक कीमत देता है।

गधे के दूध को पीने से पहले उबाला नहीं जाना चाहिए और इससे चाय भी नहीं बनाई जा सकती। यह अपने कच्चे रूप में सबसे अधिक मूल्यवान है। उद्घाटन के पहले दिन ही वह कुछ ही घंटों में अपने फार्म का सारा दूध बेचने में सक्षम थे।

श्रीनिवास गौड़ा को 42 साल की उम्र में अपना करियर बदलने का कोई मलाल नहीं है। उन्होंने कभी गधा पालन करना और उससे अच्छा पैसा कमाने की कल्पना नहीं की थी।

महत्वपूर्ण खबर: कीटनाशकों पर जीएसटी 5 प्रतिशत रखने की केंद्र से माँग

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.