कृषि क्लीनिक और बिजनिस सेन्टर योजना का लाभ किसे मिल सकता है

Share

ग्रामीण युवाओं की आर्थिक मजबूती का प्रयास-2

  • मांगी लाल जाट, प्रसार शिक्षा विभाग,
    अमित स्वामी, कृषि व्यवसाय प्रबंधन संस्थान, जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय, जबलपुर
  • डॉ. राजेन्द्र कुमार, सह आचार्य,
    कृषि कीट विज्ञान, MBDDS महिला कृषि महाविद्यालय, सीसवाली

 

6 दिसंबर 2021, कृषि क्लीनिक और बिजनिस सेन्टर योजना का लाभ किसे मिल सकता है – यह योजना निम्नवत अभ्यर्थियों के लिए है :

  • आईसीएआर/यूजीसी से मान्यता राज्य कृषि विश्वविद्यालयों (एसएयू)/ केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालयों से कृषि और संबंधित विषयों में स्नातक।
  • कृषि और संबंधित विषयों में स्नातक की शिक्षा देने वाले अन्य एजेंसियों को राज्य सरकार के संस्तुति पर कृषि और सहकारिता मंत्रालय, भारत सरकार के अनुमोदन के अधीन।
  • राज्य कृषि विश्वविद्यालयों, राज्य कृषि और संबंधित विभागों तथा राज्य के तकनीकी शिक्षा विभाग से कृषि और संबंधित विषयों में डिप्लोमा (न्यूनतम 50 प्रतिशत अंक)/स्नातकोत्तर डिप्लोमा धारक।
  • राज्य सरकार की संस्तुति पर कृषि और सहकारिता मंत्रालय, भारत सरकार के अनुमोदन के अधीन अन्य एजेंसियों से कृषि और सम्बंधित विषयों में स्नातक।
  • जैविक विज्ञान स्नातक के साथ कृषि और संबंधित विषयों में स्नातकोत्तर।
  • यूजीसी से मान्यता प्राप्त ऐसे स्नातक पाठ्यक्रम जिसमें 60 प्रतिशत से अधिक पाठ्यक्रम कृषि और संबंधित विषयों से संबद्ध हो।
  • मान्यता प्राप्त महाविद्यालयों और विश्वविद्यालयों से जैविक विज्ञान के साथ विज्ञान में स्नातक के पश्चात डिप्लोमा/ स्नातकोत्तर डिप्लोमा पाठ्यक्रम जिसमें 60 प्रतिशत से अधिक पाठ्यक्रम कृषि और संबंधित विषयों से संबद्ध हो।
  • न्यूनतम 55 प्रतिशत अंकों के साथ कृषि संबंधित पाठ्यक्रमों में उच्चतर माध्यमिक (बारहवीं कक्षा)।
उम्मीदवारों के चयन के लिए अन्य जानकारी

उधारकर्ताओं का चयन एवं प्रोजेक्ट के स्थान का चयन राज्य के कृषि विभाग/केवीके, कृषि विश्वविद्यालयों के परामर्श से बैंकों द्वारा किया जाता है। इसके अलावा, उन कृषि स्नातकों का नाम एवं पता जिन्होंने प्रशिक्षण कार्यक्रम पूरा कर लिया है, भारतीय कृषि विस्तार प्रबंधन संस्थान,हैदराबाद की वेबसाइट से पूरी जानकारी ली जा सकती है।

आवेदन के लिए आवश्यक दस्तावेज
  • ऑनलाइन आवेदन कहीं से भी किया जा सकता है परन्तु इसके लिए किसानों को साथ में यह दस्तावेज रखने होंगे-
  • आधार कार्ड नम्बर
  • ई-मेल आईडी
  • अंतिम शैक्षणिक योग्यता
  • बैंक अकाउंट की जानकारी
  • आवेदक की फोटो
  • एग्री क्लिनिक एवं एग्री व्यवसाय केन्द्र स्थापना प्रशिक्षण हेतु आवेदन
  • प्रशिक्षण के इच्छुक व्यक्ति को प्रशिक्षण लेने के लिए पहले ऑनलाइन आवेदन करना होता है। आवेदन के समय आवेदक अपनी सुविधा के अनुसार केंद्र का चयन कर सकते हैं जिसमें आप ट्रेनिंग लेना चाहते हैं। यदि आवेदक का चयन हो जाता है तो वह प्रशिक्षण के लिए पात्र होगा और वह संसथान से प्रशिक्षण लेकर अपना कृषि क्लिनिक या कृषि व्यवसाय केंद्र खोल सकता है। किसान भाई अधिक जानकारी के लिए 1800-425-1556 टोल फ्री नम्बर पर भी कॉल कर सकते हैं।
प्रोजेक्ट गतिविधियाँ
  • कार्यकलापों की एक विस्तृत सूची।
  • मिट्टी एवं पानी की गुणवत्ता सहित इनपुट जांच प्रयोगशाला।
  • कीट निगरानी, निदानशास्त्र एवं नियंत्रण सेवा।
  • कृषि उपकरणों एवं मशीनों जिसमें लघु सिंचाई प्रणाली भी ( छिडक़ाव एवं ड्रिप) शामिल है, के रखरखाव, मरम्मत एवं प्रथागत किराए पर लेना।
    उक्त संदर्भित तीनों क्रिया कलापों सहित कृषि सेवा केन्द्र (सामूहिक क्रियाकलाप)।
बीज संसाधन इकाइयां
  • कठोरीकरण इकाइयों और टिश्यू कल्चर प्रयोगशाला संयंत्रों के जरिए सूक्ष्म प्रसारण।
  • केंचुआ पालन इकाइयों, जैव उर्वरकों का उत्पादन, जीव कीटनाशकों, जीव नियंत्रक कारकों की स्थापना।
  • मधुपालन, मधु एवं मधुमक्खी उत्पादनों की संसाधन इकाइयों की स्थापना हेतु।
  • परामर्श सेवा विस्तार के प्रावधान हेतु।
  • उत्पत्ति शालाओं एवं मत्स्यपालन उंगली जैसी छोटी मछली की उत्पत्ति हेतु।
  • पशु स्वास्थ्य संरक्षण, पशु चिकित्सालय एवं फ्रोजन वीर्य बैंक व तरल नाइट्रोजन आपूर्ति सहित सेवा का प्रावधान।
  • ग्रामीण क्षेत्रों में विभिन्न कृषि विषयक प्रवेशों की पहुँच के लिए सूचना प्रौद्योगिकी संबंधित कियोस्क स्थापित करने हेतु।
  • चारा संसाधन एवं परीक्षण इकाइयों हेतु मूल्यवर्धन केन्द्र।
  • कृषि स्तर से आगे के लिए कूल चेन की स्थापना हेतु ( समूह क्रिया कलाप)।
  • संसाधित कृषि उत्पादनों के लिए रिटेल विपणन व्यापार हेतु केन्द्र।
  • कृषि भूमि इनपुट और आउटपुट की (ग्रामीण विपणन) डीलरशिप।

 

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.