संपादकीय (Editorial)

खेती की लागत में कमी करें

Share

खेती की लागत में कमी करें

खेती की लागत में कमी करें – वर्तमान में कृषि को लाभकारी व्यवसाय बनाने के लिये सभी स्तर पर प्रयास चलाये जा रहे हैं। चाहे वो कृषक हो या कृषि विभाग के मैदानी कार्यकर्ता अथवा शासन की नीतियां हों, सभी में कृषि को लाभकारी बनाने का समावेश किया जा रहा है। वास्तविकता यही है कि किसी प्रकार से यदि खेती की लागत में कमी हो गई हो तो खेती अपने आप लाभकारी होने लगेगी। कृषि अनुसंधानों द्वारा विकसित तथा सिफारिश की गई अनेकों सिफारिशों में कम लागत में अधिक आमदनी के कुछ सुझाव हैं जिनको अपनाने में अतिरिक्त व्यय नहीं करना पड़ता है परंतु लाभ अत्यधिक प्राप्त किया जा सकता है।

यह समय बुआई का है खरीफ की प्रमुख फसलों में सोयाबीन, धान, कपास, ज्वार, मक्का तथा अन्य लघु धान्य आती हैं जिनकी बुआई की जाना है। पिछले वर्ष सोयाबीन फसल की परसी थाली प्रकृति ने हाथों से छीन ली थी, उसका असर इस वर्ष इतना अधिक है कि बुआई हेतु बीज की जुगाड़ भी मुश्किल पड़ रही है ऐसे में बिचोलिये जिन्होंने आसपास के प्रदेशों से अनाज खरीद कर रख लिया था, औने-पौने दाम में अनाज को बीज की दर में बेच रहे हैं।

शासन के प्रयासों के बाद भी 50-60 लाख हेक्टर क्षेत्र के लिये पर्याप्त अच्छा बीज उपलब्ध कराना किसी बड़ी चुनौती से कम नहीं है कृषकों के सम्पर्क से ज्ञात हुआ है कुछ बीज बाहर से तथा कुछ पिछले वर्ष का बचा है का उपयोग इस वर्ष किया जाना है। सोयाबीन के बारे में सतत बताया तथा चेताया भी गया है कि भंडार में यह रखी सामग्री एक अनाज है, बीज कदापि नहीं है उसे बीज बनाने के लिए उसकी छंटाई-छनाई तथा तीन प्रकार के बीजोपचार इस वर्ष तो अत्यंत जरूरी है क्योंकि यदि खराब कूड़ा-कचरा वाला अनाज खेतों में पहुंच गया तो इसका असर अंकुरण पर होगा। अच्छा अंकुरण अधिक उत्पादन की प्रथम सीढ़ी है।

अनुसंधान बताता है अनाज की केवल छंटाई-छनाई से 2-3 क्विंटल तक का उत्पादन/हे. बढ़ाया जा सकता है साथ में यदि बीजोपचार कर दिया गया हो तो यह सोने में सुहागा जैसा होगा और उत्पादन में 5 क्विंटल/हेक्टर तक का इजाफा किया जाना कोई असंभव बात नहीं है। सोयाबीन का अंकुरण परीक्षण करके ही उसकी बीज दर निर्धारित की जाये ताकि प्रति ईकाई पौध संख्या पर्याप्त हो सके। अंकुरण परीक्षण बिना खर्च के घर में ही किया जा सकता है।

इन कार्य में कोई अधिक खर्च नहीं आयेगा। परंतु लाभ जरूरी ही होगा। अन्य खरीफ फसलों के अनाज को भी बीज बनाकर ही बोया जाये। बोआई समय पर की जाना जरूरी है परंतु बुआई मानसून की सक्रियता पर निर्भर रहती है कम से कम 4 इंच पानी गिरने के बाद ही बुआई की जाये। ग्रामीण क्षेत्रों में बुआई की लड़य्या दौड़ में अक्सर गलत समय और गलत खेत में बोनी की जाकर बीज बर्बाद हो जाता है चूंकि इस वर्ष बीज की त्राहि-त्राहि मची हुई है। पूर्ण विवेक एवं धीरज से जांच पड़ताल के बाद ही बुआई की जाये। बीज अधिक गहरा ना जावे तथा अंकुरण उपरांत खेतों में 10 दिनों तक तकाई कराके चिडि़य़ा, तोता से कोमल कोपलों को बचाया जाये ताकि उपलब्ध पोषक तत्व का उपयोग केवल पौधे ही कर सकें। अधिक से अधिक क्षेत्र में अंतरवर्तीय फसल पद्धति अपनाई जाये।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *