चने की बुवाई रेज्ड बेड पद्धति से करें

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

23 अक्टूबर 2020, शाजापुर।चने की बुवाई रेज्ड बेड पद्धति से करें – शाजापुर कृषि विज्ञान के वैज्ञानिक डॉ एस.एस. धाकड ने बताया कि चने की बुवाई का उचित समय चल रहा है। किसान भाई बुवाई करते समय अनुषंसित प्रजातियां आर.व्ही.के.जी-101. आर.व्ही.के.जी-102, जे.जी.के-1, जे.जी.के-2, काक-2,, जे.जी-14, आर.व्ही.जी-201, आर.व्ही.जी-202, आर.व्ही.जी-203, आर.व्ही.जी-205, जाकी-9218 किस्मों में से कोई भी किस्म का चयन कर रेज्ड बेड सीड कम फर्टीड्रील मषीन से बुवाई करें। डॉ धाकड ने बताया कि बुआई करने से फसल की दो लाईनों के बीच एक गहरी नाली बन जाती है। प्रत्येक रेज्डबेड में चने की दो कतारों में बुआई की जाती है। रेज्ड बेड पद्धति से बुवाई करने पर सिंचाई के पानी का व्यवस्थापन अच्छी तरह से होता है। समतल क्यारी विधि की अपेक्षा 30 प्रतिशत पानी की बचत होती है। समतल क्यारी विधि की अपेक्षा 25 प्रतिशत अधिक उपज प्राप्त होती है। उर्वरक के सही व्यवस्थापन के कारण उर्वरक उपयोग क्षमता भी बढ़ती है। बीज दर कम लगती है जिसमें पौधो की संख्या नियत्रित की जा सकती है। मेढ़ से मेढ़ की दूरी पर्याप्त होने से पौधों की कैनोपी को सूर्य की किरणें अधिक से अधिक मिलती हैं जिससे पौधें की शक्ति बढ़ती है तथा आस-पास की मिट्टी भी सूखी रहती है जिससे पौधों के झुकने की समस्या नही रहती है। साथ ही इस विधि द्वारा मृदा नमी का संरक्षण भी होता है।

महत्वपूर्ण खबर : प्रधानमंत्री द्वारा राष्ट्र को समर्पित 8 फसलों की 17 जैव संवर्धित क़िस्म पौष्टिकता से भरपूर

केन्द्र के वैज्ञानिक डॉ मुकेष सिंह ने बताया चने की बुवाई में बीज दर 75 किलो प्रति हैक्टेयर तथा बीज को बोते समय सबसे पहले फफूंदनाषक दवा जैसे- बावस्टीन, थायरम की 2.5 ग्राम मात्रा प्रति किलो बीज या ट्रायकोडर्मा बिर्डी की 5 ग्राम मात्रा प्रतिकिलो बीज से बीजोपचार करें यदि खेत में दीमक या भूमिगत कीटों की समस्या है तो कोई भी एक कीटनाषक जैसे-क्लोरो पायरीफास की 5 एम.एल मात्रा प्रतिकिलो बीज के मान से बीजोपचार करें उसके पष्चात रायजोबियम एवं पी.एस.बी कल्चर की 5-5 ग्राम मात्रा प्रतिकिलो बीज के मान से बीजोपचार कर रेज्ड बेड पद्धति से बुवाई करें किसान भाई अच्छा उत्पादन प्राप्त करने के लिये बीजोपचार के समय अमोनियम मोलिब्डेड की 1 ग्राम मात्रा प्रतिकिलो बीज के मान से बीजोपचार कर बुवाई करते है तो उत्पादन में वृद्धि की जा सकती है यह दवाई बीजोपचार के सबसे अंत में बीज में मिलाकर उसी दिन बुवाई करें। बोते समय उर्वरक इफको 12ः32ः16 की 200 किलोग्राम मात्रा प्रति हैक्टेयर रेज्ड बेड सीड कम फर्टीड्रील मषीन से बुवाई करें।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

18 − 9 =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।