इस साल सोयाबीन की बुवाई से पहले जान लें ये 5 जरूरी बातें

Share

29 जून 2022, भोपाल । इस साल सोयाबीन की बुवाई से पहले जान लें ये 5 जरूरी बातें –सोयाबीन ख़रीफ़ की एक प्रमुख फसल है जिसे किसान पिछले 5 दशकों से उगा रहे हैं। फसल के प्रत्येक चरण का तकनीकी रूप से अनुकरण करना आवश्यक है ताकि इससे अधिकतम लाभ कमाया जा सके। इस साल सोयाबीन की बुवाई शुरू करने की योजना बनाने से पहले इन 5 महत्वपूर्ण बिंदुओं को जानना जरूरी है। इससे आपके उत्पादन में जबरदस्त सुधार होगा और आपकी खेती की लागत कम होगी।

1. बीज खरीद 
यदि आप कम उपज देने वाले बीज खरीदते हैं, तो आपको उर्वरक और अन्य आदानों पर खर्च करने के बावजूद कम उत्पादन प्राप्त होगा। उच्च उत्पादन इनपुट लागत को बढ़ाता है। लेकिन यह जानना भी जरूरी है कि यदि आप सोयाबीन का अधिक उत्पादन चाहते हैं तो आपको अधिक उपज देने वाली किस्म का उपयोग करना चाहिए। उत्पादन लागत में वृद्धि होगी लेकिन आपको अधिक उपज प्राप्त होगी। सोयाबीन की किस्मों के बारे में अधिक जानने के लिए यहां क्लिक करें
2. बीज उपचार 
इन दिनों बीज कंपनियों द्वारा आमतौर पर बीजों का उपचार रसायनों द्वारा किया जाता है। फिर भी आपको चूकना नहीं चाहिए और बुवाई से 24 घंटे पहले बीज उपचार करना चाहिए। इससे अंकुरण प्रतिशत बढ़ाने में मदद मिलेगी और बीज जनित और मिट्टी जनित बीमारियों से बीज की रक्षा होगी। बीज उपचार के बारे में जानने के लिए यहां क्लिक करें
3. बुवाई का समय 
चूंकि खरीफ में सोयाबीन की बुवाई के लिए अधिकांश किसान वर्षा पर निर्भर हैं, इसलिए मौसम की अद्यतन जानकारी नियमित रूप से देखने की सलाह दी जाती है। किसान भाई ,आपके क्षेत्र में 4 इंच बारिश के बाद ही सोयाबीन की बुवाई करें। यह अच्छे अंकुरण के लिए पर्याप्त नमी प्रदान करेगा।
4. खरपतवार प्रबंधन 
अनचाहे खरपतवार फसल उत्पादन को 20 प्रतिशत या इससे अधिक तक कम कर सकते हैं। फसल को बचाने के लिए समय पर खरपतवार निकालना जरूरी है। आप इसे मज़दूरों द्वारा या बाजार में उपलब्ध कृषि रसायनों द्वारा कर सकते हैं। आप ट्रैक्टर और अन्य उपकरणों की मदद से यांत्रिक निराई भी कर सकते हैं। 
5. रोग और संक्रमण प्रबंधन 
यह देखना आवश्यक है कि आपके सोयाबीन फसल क्षेत्र के हर कोने में क्या हो रहा है। यह जानने के लिए, यह आवश्यक है कि आप हर सात दिनों में फसल लगे खेत में घूमें ताकि फसल की सही स्थिति जान सकें। मजदूरों की निगरानी के लिए अपनी खेत न छोड़ें। कीट, रोगों पर नियंत्रण रखने के लिए कीटनाशकों और फफूंदनाशकों के निवारक और उपचारात्मक छिड़काव दोनों का प्रयोग करें।
 
 
(कृषक जगत राष्ट्रीय कृषि अखबार की वेबसाइट में समाचार रिपोर्टिंग में सुधार करने में हमारी सहायता करें। एक छोटा सा सर्वे भरें और हमें बताएं कि आप किस बारे में अधिक पढ़ना चाहते हैं। सर्वे भरने के लिए यहां क्लिक करें)
 

महत्वपूर्ण खबर: कीटनाशकों पर जीएसटी 5 प्रतिशत रखने की केंद्र से माँग

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.