एग्री ड्रोन तकनीकी का प्रदर्शन

Share

15 सितम्बर 2022, राजनांदगांव। एग्री ड्रोन तकनीकी का प्रदर्शन – आजादी का अमृत महोत्सव अंतर्गत छत्तीसगढ़ शासन द्वारा कृषि ड्रोन के इस्तेमाल को बढ़ावा देने के लिए कंप्लीट एग्री एंबूलेंस के अंर्तगत एग्रीकल्चर ड्रोन सॉल्यूशन के तहत कृषि विज्ञान केंद्र सुरगी राजनांदगांव द्वारा अंबागढ़ चौकी विकासखण्ड के ग्राम सोनसायटोला में एग्री ड्रोन के माध्यम से नैनो यूरिया के छिडक़ाव तकनीक का प्रदर्शन किया गया जिसमें कृषकों के प्रक्षेत्र में लगे 10 एकड़ धान फसल में नैनो यूरिया के छिडक़ाव कर इसका प्रशिक्षण दिया गया।

इस एग्री ड्रोन तकनीकी प्रदर्शन के अवसर पर आई.सी.आर.-कृषि प्रौद्योगिकी अनुप्रयोग अनुसंधान संस्थान, जोन-9, जबलपुर के निदेशक डॉ. एस. आर. के. सिंह, कृषि विज्ञान केंद्र, राजनांदगांव के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख डॉ. बी.एस. राजपूत, श्री ए.के. उपाध्याय, मैनेजर (इफको) राजनांदगांव, कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिक श्री अतुल डांगे, श्रीमती सुरभि जैन व श्री प्रवीण बनवासी, यंग प्रोफेशन, श्री यशवंत वैष्णव एवं ग्राम के पटवारी, सरपंच, उपसरपंच, सचिव सहित जिले के कृषक उपस्थित थे।

इस कार्यक्रम में निदेशक डॉ. एस. आर. के. सिंह द्वारा इसके लाभ के बारे में बताया कि किसानों को एक एकड़ खेत में कीटनाशक और यूरिया के छिडक़ाव में तीन से चार घंटे का समय लग जाता है जबकि ड्रोन से प्रति एकड़ फसल पर छिडक़ाव करने में सिर्फ आधा घंटा लगता है।

तत्पश्चात डॉ बी.एस. राजपूत ने इस प्रदर्शन कार्यक्रम के माध्यम से बताया कि इस एग्री ड्रोन के द्वारा सभी प्रकार के उर्वरक, कीटनाशक, फफूंदनाशक एवं रसायनों का छिडक़ाव किया जा सकता है।

महत्वपूर्ण खबर: गोवंश को बचाने के लिये सरकार हरसंभव प्रयासरत – कृषि मंत्री  

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.