दिहाड़ी से भी कम है राहत राशि

मध्य प्रदेश सरकार का राहत वितरण मप्र में अतिवृष्टि से नष्ट हुई खरीफ फसलों की क्षतिपूर्ति के लिये राज्य शासन ने लम्बी कबायद के बाद प्रशासन से आंकलित नुकशान में कॉटछाट करके शासन ने तय की गई क्षति राशि का

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

किसानों को हवाई सपने दिखाती सरकार

म.प्र. में सत्तासीन होने के लिए कांग्रेस ने किसानों से ढेर सारे वायदे किये थे परंतु सत्ताशीर्ष पर विराजमान होने के लगभग ग्यारह महीने बाद भी उन वायदों/आश्वासनों की क्रियान्वयन के स्तर पर परिणति का आकलन करें तो यही कहा

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

उर्वरक का कालाबाजार

यह कैसा लोकतंत्र है कि अन्नदाता देश का पेट भरने एक-एक बोरी यूरिया की जुगाड़ में भटक रहा है। सत्ता पक्ष एवं विपक्ष किसान की इस विपदा में अपना राजनैतिक लाभ तलाश रहा है। मौके का राजनैतिक लाभ लेने आरोपों

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Advertisements

कपास उत्पादन 360 लाख गांठ होने का अनुमान

निर्यात बढऩे की संभावना मुंबई। सीएबी ने फसल सीजन 2019-20 में कपास का उत्पादन 9 फीसदी बढ़कर 360 लाख गांठ(एक गांठ में 170 किलो) होने का अनुमान लगाया है। पिछले साल देश में 330 लाख गांठ कपास का उत्पादन हुआ

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

श्री संजीव सिंह होंगे नए कृषि संचालक

आईएएस अधिकारियों के तबादले भोपाल। कमलनाथ सरकार राज्य में आईएएस अधिकारियों के तबादलों का सिलसिला नहीं रोक रही है। लगभग एक वर्ष होने को हैं। इन 12 महिनों में हर माह आईएएस अधिकारी बदले गए हैं केवल आचार संहिता की

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

यूरिया संकट – हौवा या हवा ?

(विशेष प्रतिनिधि) यूरिया एक ऐसा उर्वरक है जिसका देश में उत्पादन व आयात दोनों ही देश की मांग से कम है। ऐसे में केंद्र ने इसे अपने नियंत्रण में रखा है। केंद्र राज्यों की यूरीया मांग का आंकलन कर उन्हें

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Advertisements

पशुओं की नस्ल सुधरेगी, दुग्ध उत्पादन बढ़ेगा

पशुपालन मंत्री श्री यादव अमेरिका यात्रा से लौटे भोपाल। प्रदेश में उन्नत नस्ल के पशुओं की संख्या बढ़ाने के लिए किसानों को नि:शुल्क मादा गर्म भ्रूण उपलब्ध कराने तथा दुग्ध उत्पादन बढ़ाने के उद्देश्य को लेकर भोपाल में 48 करोड़

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

देश में रबी बुवाई गेहूं आगे, दलहन पीछे

(निमिष गंगराड़े) नई दिल्ली। कृषक जगत ने 25 नवंबर के अंक मे प्रकाशित किया था कि गेहूं की बुवाई में तेजी आई है। इस सप्ताह भारत सरकार के कृषि मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़े भी इस तथ्य की पुष्टि करते हैं।

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

म.प्र. में रबी बोनी 70 लाख हेक्टेयर के पार

भोपाल। चालू रबी सीजन में नवम्बर अंत तक फसलों की बुवाई सामान्य गति से चल रही है। अब तक 70 लाख हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र में बोनी की जा चुकी है जो लक्ष्य के विरुद्ध 59 फीसदी है। गेहूं की

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

सर्दी बढ़ने के साथ देश में गेहूं की बुवाई में तेजी आई

(निमिष गंगराड़े) नई दिल्ली। इस वर्ष अतिवृष्टि की मार से जूझ रहे किसान भाई अब खरीफ फसलों से हुए नुकसान को भूलकर रबी की बुवाई में जुट गए हैं। गेहूं की बुवाई अभी तक लगभग 97 लाख हे. में हो

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें