‘पॉजीटिव ऑलवेज’ थीम पर – विजिलेंस पब्लिसिटी के 36वें कैलेंडर का विमोचन

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

इन्दौर। अपने 36वें वर्ष में प्रवेश कर रही विजिलेंस पब्लिसिटी ने वर्ष 2018 के कैलेंडर का विमोचन किया। मध्य भारत की अग्रणी आईएनएस एजेंसी विजिलेंस पब्लिसिटी ने इस वर्ष नई सोच और पॉजीटिविटी को आगे बढ़ाने का संकल्प लिया है। इस उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए इस वर्ष जारी लोगो में सदैव सकारात्मक रहने की सोच को प्रस्तुत किया गया है तथा इस कैलेंडर को ‘पॉजीटिव ऑलवेज’ टैग लाइन के साथ तैयार किया गया है।
विजिलेंस 2018 में अपने 36वें वर्ष में प्रवेश कर रहा है। गौरतलब है कि विजिलेंस प्रत्येक वर्ष एक थीम के आधार पर कैलेंडर तैयार करता है। 25वें वर्ष को ब्रांड्स की नई सोच को समर्पित किया गया था तो वहीं 32वें वर्ष को ‘सर्विस विथ स्माइल’ थीम पर तैयार किया गया था।
विजिलेंस पब्लिसिटी के श्री प्रमोद फरक्या ने बताया है कि ‘विजिलेंस के कैलेंडर का हर साल बेसब्री से इंतजार किया जाता है। इसे आप प्रदेश के लीडिंग ब्रांड्स, कॉर्पोरेट और संस्थानों में देख सकते हैं। प्रदेश में एग्रीकल्चर प्रोडक्ट की मार्केटिंग के लिए 3 दशकों से एकमात्र इंटीग्रेटेड मार्केटिंग सॉल्यूशन कंपनी के रूप में विख्यात रही है।’
पिछला वर्ष बहुत चैलेंजिंग रहा है। लेकिन चैलेंज में भी नई संभावनाएं रहती हैं। यह साल हम ‘पॉजीटिव ऑलवेज’ थीम पर सेलिब्रेट कर रहे हैं। विजिलेंस की 36वें वर्ष में प्रवेश तक की यात्रा लाजवाब रही है। हमारी सकारात्मक सोच इस यात्रा का महत्वपूर्ण पहलू है। हमारे पिताजी द्वारा शुरू की गई यह यात्रा क्लाइंड्स, मीडिया एवं मित्रों के सहयोग से आगे बढ़ी है। इस हेतु हम सबके आभारी हैं। हमारे बड़े भाईयों स्व. श्री दिनेश फरक्या एवं स्व. श्री गोविन्द फक्या के विजन ने हमें यह उपलब्धि हासिल करने में मदद की है।
1982 में स्व. श्री कन्हैयालाल जी फरक्या द्वारा स्थापित विजिलेंस इस वर्ष अपने 36वें वर्ष में प्रवेश कर रहा है। विजिलेंस के संस्थापक स्व. श्री फरक्या ने पूरे प्रदेश में अपनी पहचान बनाई। उनके पुत्रों स्व. श्री दिनेश फरक्या एवं स्व. श्री गोविन्द फरक्या ने एजेंसी की पहुंच छोटे से छोटे गांव तक पहुंचाई। श्री प्रमोद फरक्या के नेतृत्व में एजेंसी नये मुकाम हासिल कर रही है।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen − 9 =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।