120 सहकारी समितियों में 17 करोड़ की लागत से बनेंगे गोदाम

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

14 अगस्त 2020, जयपुर। 120 सहकारी समितियों में 17 करोड़ की लागत से बनेंगे गोदाम सहकारिता मंत्री श्री उदयलाला आंजना ने बताया कि राज्य की 100 ग्राम सेवा सहकारी समितियों में 100-100 मीट्रिक टन एवं 20 क्रय-विक्रय सहकारी समितियों में 250-250 मीट्रिक टन गोदाम निर्माण की स्वीकृति प्रदान कर दी गई है। इससे उपज के भण्डारण की क्षमता में वृद्धि होगी, वहीं किसानों को समय पर कृषि आदानों की उपलब्धता सुनिश्चित करने में गोदामों का उपयोग हो सकेगा। उन्होंने बताया कि इससे राज्य की भंडारण क्षमता में 15 हजार मीट्रिक टन की वृद्धि होगी।

श्री आंजना ने बताया कि हमारी प्राथमिकता प्रत्येक ग्राम सेवा सहकारी समिति में गोदाम का निर्माण करना है। उन्होंने बताया कि 26 जिलों में बनने वाले इन गोदामों पर 17 करोड़ रुपये व्यय होंगे। उन्होने बताया कि 100 ग्राम सेवा सहकारी समितियों के लिए प्रति समिति 12 लाख रुपये एवं 20 क्रय-विक्रय सहकारी समितियों के लिए प्रति समिति 25 लाख रूपये व्यय होंगे। इस प्रकार 100 ग्राम सेवा सहकारी समितियाें हेतु 12 करोड़ रुपये तथा 20 क्रय-विक्रय सहकारी समितियों पर 5 करोड़ रुपये खर्च होंगे।

प्रमुख शासन सचिव सहकारिता, श्री कुंजीलाल मीणा ने बताया कि समितियों को प्रथम किश्त के रूप में 8.50 करोड़ रुपये दिये जा रहे है। उन्होंने बताया कि जिन सहकारी समितियों के पास भूमि नहीं है, ऎसी समितियों में भूमि की उपलब्ध कराए जाने के लिए जिला प्रशासन के स्तर से प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि जिन समितियों में भूमि उपलब्ध होना संभव नहीं है और विद्यालयों के परिसीमन के कारण खाली हुए विद्यालय भवन उपलब्ध हैं ऎसे भवनों को शिक्षा विभाग की सहमति से गोदाम के रूप में काम में लिया जाएगा। इस हेतु प्रस्ताव मंगवाये जा रहे है।

रजिस्ट्रार सहकारिता, श्री मुक्तानन्द अग्रवाल ने बताया कि प्रतापगढ़़ जिले में 12 ग्राम सेवा सहकारी समितियों, भीलवाड़ा में 8, बीकानेर एवं श्रीगंगानगर में 7-7, कोटा एवं जयपुर में 6-6, बारां एवं बाड़मेर में 5-5, उदयपुर, बांसवाड़ा, अजमेर, झुंझुनूं एवं दौसा में 4-4, चित्तौड़गढ़, सवाईमाधोपुर एवं पाली में 3-3, बूंदी, नागौर, जोधपुर, जैसलमेर, चूरू एवं हनुमानगढ़ में 2-2, सीकर, अलवर एवं टोंक जिले में 1-1 ग्राम सेवा सहकारी समितियों में 100 मीट्रिक टन के गोदाम निर्मित होंगे।

श्री अग्रवाल ने बताया कि पाली, श्रीगंगानगर एवं बारां जिले की 3-3 क्रय-विक्रय सहकारी समितियों में, टोंक, बूंदी एवं बांसवाड़ा में 2-2 तथा कोटा, डूूंगरपुर, बाड़मेर, सीकर एवं अलवर जिले की 1-1 क्रय-विक्रय सहकारी समितियों में 250 मीट्रिक टन क्षमता के गोदाम बनाए जाएंगे। 

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × 4 =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।